संस्कृति विवि ने छाता में निकाली एड्स जागरूकता रैली

संस्कृति विश्वविद्यालय के संस्कृति स्कूल ऑफ नर्सिंग, संस्कृति आयुर्वेद कॉलेज एवं अस्पताल तथा संस्कृति स्कूल ऑफ फार्मेसी के छात्रों द्वारा ‘विश्व एड्स दिवस’ पर छाता में एक जागरूकता रैली का आयोजन किया गया।

संस्कृति स्कूल ऑफ नर्सिंग, संस्कृति आयुर्वेद कॉलेज एवं अस्पताल तथा संस्कृति स्कूल ऑफ फार्मेसी विभाग के संयुक्त तत्वावधान में निकाली गई रैली में छात्र-छात्राएं गंभीर बीमारी एड्स के प्रति जागरूक करने वाले संदेशों को बैनरों के माध्यम से प्रचारित कर रहे थे। छात्र-छात्रा इस बीमारी से संबंधित सावधानियों और भ्रांतियों का निवारण करने वाले नारे भी लगा रहे थे।

रैली में चल रहे संस्कृति आयुर्वेद कॉलेज के चिकित्सकों ने बताया कि एड्स (‘एक्वायर्ड इम्यूलनो डेफिसिएंशी सिंड्रोम’)एक तरह के विषाणु से फैलने वाली बीमारी है जिसका नाम एचआईवी (ह्यूमन इम्युनोडेफिसिएंसी वाइरस) है। बताते चलें कि विश्व एड्स दिवस 1988 के बाद से एक दिसंबर को हर साल मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य एचआईवी संक्रमण के प्रसार की वजह से एड्स महामारी के प्रति जागरूकता बढ़ाना और इस बीमारी से जिसकी मौत हो गई है उनका शोक मनना है।

रैली में दी गई जानकारी के अनुसार प्रारंभ में विश्व एड्स दिवस को सिर्फ बच्चों और युवाओं से ही जोड़कर देखा जाता था परन्तु बाद में पता चला कि एचआईवी संक्रमण किसी भी उम्र के व्यक्ति को प्रभावित कर सकता है। अमेरिकन जीन टेक्नोलॉजीज का दावा है कि एक जीन थैरेपी के माध्यम से एचआईवी-एड्स का इलाज संभव है। कंपनी का दावा है कि हमने इस दिशा में अपना शोध कार्य पूरा करते हुए फाइनल रिपोर्ट एफडीए को सौंपी है। विशेषज्ञों का मानना है कि इस ड्रग्स से एचआईवी को जड़ से खत्म किया जा सकता है। हलांकि एचआईवी-एड्स का आध्यामिक इलाज़ भी संभव है, अध्यात्म के मुताबित सत भक्ति (सतज्ञान) करने से बड़े बड़े रोग दूर फिर चाहे वह एड्स ही क्यों ना हो।

संस्कृति विवि से रैली को हरी झंडी दिखाकर संस्कृति विवि के डीन एडमिनिस्ट्रेशन डॉ. जावेद अख्तर ने रवाना किया। बाद में यह रैली छाता में मुख्य बाजार से होती हुई सब्जी मंडी होकर पुलिस चौकी हाईवे पर संपन्न हुई। रैली में संस्कृति स्कूल ऑफ नर्सिंग के प्राचार्य डॉ. केके पाराशर, संस्कृति स्कूल ऑफ फार्मेसी के डीन डॉ. विशाल, प्रशासनिक अधिकारी विवेक श्रीवास्तव सहित अन्य अधिकारी और कर्मचारी भी शामिल हुए।
– Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *