‘ज्ञानशक्ति प्रसार अभियान’ का आगरा, मथुरा में शुभारंभ

मथुरा। सनातन संस्था ने अध्यात्मशास्त्र, सात्त्विक धर्माचरण, दैनिक आचरण से संबंधित कृति, भारतीय संस्कृति इत्यादि अनेक विषयों पर अनमोल और सर्वांगस्पर्शी ग्रंथ प्रकाशित किए हैं। सनातन के ग्रंथों का दिव्य ज्ञान समाज तक पहुंचाने के लिए संस्था की ओर से पूरे भारत में ‘ज्ञानशक्ति प्रसार अभियान’ चलाया जा रहा है।

यह ग्रंथ समाज के प्रत्येक जिज्ञासु, मुमुक्षू, साधक इत्यादि तक पहुंचाकर हर किसी के जीवन का कल्याण हो, इसलिए यह ‘ज्ञानशक्ति प्रसार अभियान’ आरंभ किया गया है। अधिकाधिक लोग इन ग्रंथों का लाभ लें। उक्‍त आवाहन सनातन संस्था की मथुरा प्रवक्ता कु. कृतिका खत्री ने किया है।

कु. कृतिका खत्री ने बताया कि सनातन की अनमोल ग्रंथसंपदा में ‘बालसंस्कार’ ग्रंथ मालिका में ‘सुसंस्कार एवं उत्तम व्यवहार’, ‘अध्ययन कैसे करें’ इत्यादि ग्रंथ, ‘धर्मशास्त्र ऐसा क्यों कहता है?’ इस ग्रंथ मालिका में ‘त्योहार मनाने की उचित पद्धति और शास्त्र’, ‘सात्त्विक रंगोलियां, ‘अलंकारशास्त्र’ इत्यादि ग्रंथ, ‘आचारधर्म’ ग्रंथ मालिका में दिनचर्या, सात्त्विक आहार, वेषभूषा, केश रचना, निद्रा इत्यादि के विषय में ग्रंथ; ‘देवताओं की उपासना’ ग्रंथ मालिका में देवताओं की विशेषता बताने वाले ‘श्री गणेश’, ‘शिव’, ‘श्रीराम’, ‘श्रीकृष्ण’, ‘श्रीदत्त’, ‘मारुती’ इत्यादि ग्रंथ; आयुर्वेद के विषय में ग्रंथ मालिका; के साथ ही ‘धार्मिक और सामाजिक कृतियों के विषय में ग्रंथ; ‘प्रथोमचार’, ‘स्वरक्षा प्रशिक्षण’, ‘घर में औषधि वनस्पतियों का रोपण कैसे करें’, ‘बाढ-भूकंप इत्यादि प्राकृतिक आपदाओं के समय स्वयं की रक्षा कैसे करें’ इत्यादि अनेक विषयों पर 347 ग्रंथ प्रकाशित किए गए हैं।

यह ग्रंथ मराठी, हिन्दी, अंग्रेजी, गुजराती, कन्नड, तमिल, मलयालम, बंगाली इत्यादि 17 भाषाओँ में उपलब्ध है। आज तक इन ग्रंथों की 82 लाख 48 हजार प्रतियां प्रकाशित की गई हैं। यह ग्रंथ केवल साधक अथवा श्रद्धालुओं के लिए ही नहीं अपितु विद्यार्थी, शिक्षक, अभिभावक, गृहिणी, अधिवक्ता, डॉक्टर, पत्रकार, प्रशासकीय अधिकारी, कर्मचारी, उद्योजक, राष्ट्रप्रेमी इत्यादि सभी क्षेत्रों के जिज्ञासुओं के लिए उपयुक्त हैं।

इस अभियान के निमित्त पूरे देश में ग्रंथप्रदर्शन, संपर्क अभियान, ग्रंथों का महत्त्व बताने वाले हस्तपत्रक, डिजिटल पुस्तिका, समाचार वाहिनी पर विशेष कार्यक्रम, ‘सोशल मीडिया’ द्वारा व्यापक प्रसार इत्यादि अनेक माध्यमों से प्रचार किया जा रहा है।

इस अभियान के विषय में संतों से आशीर्वाद तथा मान्यवरों से सदिच्छा भेंट की जा रही है। सनातन निर्मित नित्योपयोगी ग्रंथ समाज के प्रत्येक घटक हेतु साथ ही अबाल-वृद्धों के लिए उपयुक्त है। सनातन संस्था की ओर से आवाहन किया गया है कि यह ग्रंथ स्वयं क्रय करें, विविध शुभ प्रसंगों पर यह ग्रंथ उपहार दें, मित्र, मित्र-परिवार, रिश्तेदार इत्यादि को भी ग्रंथ की जानकारी दें, शाला-महाविद्यालय, ग्रंथालय इत्यादि स्थानों पर भी प्रायोजित करें ।
इन्‍हें यहां से प्राप्‍त कर सकते हैं –

ग्रंथ ‘ऑनलाइन’ खरीदने के लिए SanatanShop.com इस जालस्थल (वेबसाईट) पर जाएं अथवा Sanatan Shop ऐप डाउनलोड करें, साथ ही अधिक जानकारी के लिए संपर्क मोबाइल नंबर – 99902 27769 पर संपर्क कर सकते हैं।
– Legend News

100% LikesVS
0% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *