सैम अंकल का सिख नरसंहार पर बयान कांग्रेस के लिए मुसीबत बना, पीएम ने किया तीखा हमला

सैम अंकल का सिख नरसंहार पर बयान कांग्रेस के लिए मुसीबत बना, पीएम ने किया तीखा हमला
रोहतक। हरियाणा के रोहतक में एक जनसभा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंडियन ओवरसीज कांग्रेस (आईओसी) प्रमुख सैम पित्रोदा के 1984 दंगों पर दिए गए बयान को लेकर जमकर हमला किया।
पीएम मोदी ने कहा कि इनके लिए जीवन की कोई कीमत नहीं है। इनके ये तीन शब्द कांग्रेस के चरित्र को दर्शाते हैं।
पीएम मोदी ने कहा, ‘देश पर सबसे ज्यादा समय तक राज करने वाली कांग्रेस कितनी असंवेदनशील रही है, उसका प्रतीक है कल बोले गए तीन शब्द, ये (शब्द) ऐसे नहीं निकले हैं।
ये शब्द कांग्रेस का चरित्र हैं, कांग्रेस की मानसिकता हैं, कांग्रेस के इरादे हैं। वे तीन शब्द कौन से हैं, ‘हुआ तो हुआ।’ आप सोचेंगे कि मोदीजी क्या बोल रहे हैं, मैं विस्तार में बताता हूं। कांग्रेस का अहंकार, कांग्रेस को चलाने वालों का अहंकार इन्हीं तीन शब्दों में हम भलीभांति समझ सकते हैं…हुआ तो हुआ।’
‘यह नामदार अध्यक्ष के गुरू हैं’
जनसभा के दौरान नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘कल कांग्रेस के सबसे बड़े नेताओं में से एक ने चीख-चीखकर 1984 के दंगों के बारे में कहा कि चौरासी का दंगा हुआ तो हुआ। आपको पता है कि यह नेता कौन है। यह नेता गांधी परिवार का सबसे करीबी है, गांधी परिवार के सारे लोग के साथ हर रोज बैठना-उठना है। यह नेता गांधी परिवार का सबसे बड़ा राजदार है। यह नेता राजीव गांधी के बहुत अच्छे दोस्त और आज के जो कांग्रेस के नामदार अध्यक्ष (राहुल गांधी) हैं, उनके गुरु हैं। इन्होंने कल टीवी के सामने साफ-साफ बोल दिया कि अगर चौरासी हुआ तो…हुआ तो हुआ।’
‘कांग्रेस के छोटे-मोटे हर व्यक्ति ने किया यह पाप’
मोदी ने कहा, ‘इनके लिए हजारों लोगों के जीवन का कोई मूल्य नहीं है, उनके लिए मनुष्य-मनुष्य नहीं है। 1984 में देशभर में हजारों सिख भाई-बहनों का कत्लेआम हुआ। आज कांग्रेस कह रही है कि हुआ तो हुआ। अकेले दिल्ली में 2800 से ज्यादा सिखों की हत्या कर दी गई लेकिन आज कांग्रेस कह रही है कि हुआ तो हुआ। सैकड़ों सिखों को पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया गया, गले में टायर डालकर आग लगा दी गई लेकिन कांग्रेस कह रही है हुआ तो हुआ।’
रोहतक में पीएम मोदी ने कहा, ‘हजारों सिखों को घरों से बाहर निकालकर मारा गया लेकिन कांग्रेस कह रही है…हुआ तो हुआ। दिल्ली और देशभर में हजारों सिखों के घर जिला दिए गए, दुकानें जला दी गईं लेकिन कांग्रेस कह रही है कि हुआ तो हुआ। हरियाणा में, हिमाचल प्रदेश में, मध्य प्रदेश में, उत्तर प्रदेश में, राजस्थान में सैकड़ों सिखों को निशाना बनाया गया और नेतृत्व कांग्रेस के नेताओं ने किया। यह पाप कांग्रेस के छोटे-मोटे हर व्यक्ति ने किया लेकिन आज कांग्रेस कह रही है…हुआ तो हुआ।’
क्या है पूरा मामला?
इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा ने गुरुवार को सिख दंगे से जुड़े एक सवाल का जवाब देते हुए एक विवादित बयान दिया। पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस पर सिख दंगे को लेकर निशाना साधने के बाद सैम पित्रोदा ने गुरुवार को प्रधानमंत्री की आलोचना की।
इस दौरान एक सवाल के जवाब में पीएम पर टिप्पणी करते हुए पित्रोदा ने कहा- अब क्या है 84 का? आपने क्या किया पांच साल में उसकी बात करिए। 84 में जो हुआ वो हुआ, आपने क्या किया।
डैमेज कंट्रोल में जुटे सैम
सैम पित्रोदा 1984 के सिख विरोधी दंगों पर दिए अपने बयान पर विवाद के बाद डैमेज कंट्रोल में जुट गए हैं। पंजाब और दिल्ली में वोटिंग से पहले उनका बयान कांग्रेस पर भारी पड़ सकता था, लिहाजा उन्होंने डैमेज कंट्रोल के तहत शुक्रवार को अपने स्वर्ण मंदिर यात्रा की तस्वीर ट्वीट की। पित्रोदा ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा है कि उनके बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया जा रहा है।
स्वर्ण मंदिर दौरे की तस्वीर ट्वीट की
विवादित बयान के एक दिन बाद पित्रोदा ने स्वर्ण मंदिर में 8 मई को माथा टेकने की अपनी तस्वीर को ट्वीट किया। स्वर्ण मंदिर में ली गईं अपनी 2 अन्य तस्वीरों को ट्वीट करते हुए ‘स्वर्ण मंदिर की यात्रा जीवनपर्यंत याद रहने वाली दिव्य अनुभूति है और इस महान धर्म के इतिहास के बारे में जानकारी देती है।’
बयान पर दी सफाई
पित्रोदा ने शुक्रवार को 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर अपने बयान पर सफाई भी दी। उन्होंने कहा कि उनके बयान को तोड़ा-मरोड़ा गया है। पित्रोदा ने ट्वीट किया, ‘सत्य को तोड़ा-मरोड़ा जा रहा है, सोशल मीडिया के जरिए झूठ को फैलाया जा रहा है और लक्षित लोगों को व्यवस्थित ढंग से डराया जा रहा है। हालांकि, सत्य की हमेशा जीत होगी और झूठ का पर्दाफाश होगा। यह बस वक्त की बात है, धीरज रखिए।’
इसके बाद के ट्वीट में पित्रोदा ने पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत राजीव गांधी की जमकर तारीफ की है। उन्होंने लिखा, ’12 और 19 मई को जो लोग वोट देने जा रहे हैं, उन्हें मैं याद दिलाना चाहता हूं कि आप जिन फोन और कंप्यूटरों का इस्तेमाल करते हैं, वह पीएम राजीव गांधी द्वारा 1980 में दिखाई गई राजनीतिक इच्छाशक्ति, नीतियों, नेतृत्व, समझदारी और भारत को जोड़ने के लिए नींव व प्लेटफॉर्म विकसित करने के लिए जरूरी फंडिंग की बदौलत है।’
क्या कहा था पित्रोदा ने
पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस पर सिख दंगे को लेकर निशाना साधने के बाद सैम पित्रोदा ने गुरुवार को प्रधानमंत्री की आलोचना की। इस दौरान एक सवाल के जवाब में पीएम पर टिप्पणी करते हुए पित्रोदा ने कहा- अब क्या है 84 का? आपने क्या किया पांच साल में उसकी बात करिए। 84 में जो हुआ वो हुआ, आपने क्या किया। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने पित्रोदा के बयान की आलोचना करते हुए उसका वीडियो भी ट्वीट किया था।
बयान पर BJP, अकाली की तीखी प्रतिक्रिया
84 दंगों को लेकर पित्रोदा के बयान पर बीजेपी और शिरोमणि अकाली दल ने तीखी प्रतिक्रिया दी। दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को अमृतसर में पित्रोदा के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन भी किया और उनसे माफी की मांग की। बता दें कि दिल्ली में 12 मई को लोकसभा चुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे, वहीं पंजाब में 19 मई को आखिरी चरण में वोट डाले जाएंगे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *