गंगा में नाविक को मिली मासूम, सरकार करेगी पालन-पोषण

गाजीपुर। उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में गंगा में एक मासूम लावारिस हालत में एक लकड़ी के बक्से में बंद मिली है। लकड़ी के बक्से में बच्ची के साथ ही कई देवी-देवताओं का फोटो लगा है। उसी बक्से में उसकी जन्म कुंडली भी रखी मिली है। बच्ची को कोतवाली पुलिस ने आशा ज्योति केंद्र भेज दिया है, जहां फिलहाल उसका पालन-पोषण किया जा रहा है।
गाजीपुर के ददरी घाट के पास मासूम बच्ची को लकड़ी के बक्से में देवी-देवताओं की तस्वीरों के साथ रखा पाया गया था। गंगा घाट के किनारे जलकुंभियों के बीच फंसे उस बक्से पर एक नाविक की निगाह पड़ी। नाविक ने पास जाकर बक्से को खोला तो उसमें एक बच्ची, उसकी जन्मकुंडली और कुछ देवी-देवताओं की तस्वीरें मिलीं। कुंडली में बच्ची का नाम गंगा दर्ज होने की बात कही जा रही है। नाविक गुल्लू चौधरी ने बच्ची के मिलने की घटना को लेकर मीडिया को बताया कि लकड़ी का बक्सा हवा के बहाव से किनारे की तरफ आकर लग गया था।
गुल्लू ने जब बक्से को खोला तो उसमें एक बच्ची मिली। बच्ची मिलने की बात की जानकारी होते ही घाट पर भीड़ उमड़ पड़ी। घटना की जानकारी पुलिस को भी दी गई। इस बीच गुल्लू बच्ची को अपने साथ घर लेकर आए। गुल्लू का कहना है कि वह उस बच्ची को अपने साथ रखकर पालना चाहते हैं। नाविक होने के नाते उनको यह गंगा की तरफ से मिली सौगात है। सूचना मिलने पर सदर कोतवाली पुलिस गुल्लू नाविक के घर पहुंची और बच्ची को आशा ज्योति केंद्र ले गई। केंद्र में बच्ची का पालन-पोषण करने के साथ ही अन्य जरूरतों का ध्यान भी रखा जा रहा है।
बच्ची को किसने बक्से में रख कर प्रवाहित किया इसकी जानकारी तो अभी तक नहीं हो पाई है लेकिन बच्ची फिलहाल पूरी तरह स्वस्थ और सुरक्षित है। गंगा नदी में बक्से में रखी बच्ची का मिलना साथ ही उसके जन्मकुंडली और देवी-देवताओं की तस्वीरों का होना तरह-तरह की चर्चाओं को जन्म दे रहा है।
सरकार करेगी गंगा का पालन-पोषण
वहीं, मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ ने गाजीपुर जिला प्रशासन को निर्देशित किया है कि नवजात बच्ची के पालन-पोषण का खर्च सरकार वहन करेगी। गंगा का पालन-पोषण सरकारी खर्च पर चिल्ड्रेन होम में करने की बात कही गई है। गंगा के पालन-पोषण में सभी विभागों को सहयोग देने का आदेश भी सीएम कार्यालय से दिया गया है। इस बीच मासूम को बचाने वाले नाविक को राज्य सरकार की तरफ से आवास के साथ अन्य सरकारी सुविधाएं देने का ऐलान भी किया गया है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *