सद्गुरु एक्सक्लूसिव ने नवरात्र‍ि पर लॉन्च की ‘देवीः स्त्रैण की अग्नि’ श्रृंखला

कोयंबटूर। इस नवरात्रि पर सद्गुरु एक्सक्लूसिव ने अपने ही किस्म के एपिसोड्स की पहली श्रृंखला ‘देवीः स्त्रैण की अग्नि’ (Devi: fire of the feminine) को लॉन्च किया है। इसमें बताया गया है कि किस तरह नारीत्व के गुण को दुनिया भर में सदियों से दबाया गया है, लेकिन भारत में उसका प्रभुत्व बना हुआ है।

स्त्रैण की पूजा का इतिहास, न सिर्फ इस देश में बल्कि हर जगह, हजारों साल पुराना है। हालांकि, उस दौर में जब ‘विजय पाना’ जीवन जीने का तरीका बन गया था, स्त्रैण को धीरे-धीरे नष्ट कर दिया गया। पश्चिमी देशों में और दुनिया के दूसरे हिस्सों में सदियों तक देवी के मंदिरों को मिटाया गया है।

सद्गुरु एक्सक्लूसिव – ‘देवीः स्त्रैण की अग्नि’ श्रृंखला की झलक यहां देखी जा सकती है।

स्त्रैण की शक्ति का भारत में विशेष महत्व है। देवियों को स्त्रैण ओज, ज्ञान, साहस, ताकत, और दूसरी सांसारिक शक्तियां धारण करने वाला दर्शाया गया है। नौ-दिनों का उत्सव ‘नवरात्रि’ दिव्यता के स्त्रैण पहलू के सम्मान में मनाया जाने वाला एक मुख्य त्योहार है।

‘स्कूल की शुरुआत से ही स्त्रैण गुण के महत्व को पोषित करने की जरूरत है। बच्चों को संगीत, कला, फिलॉसफी, या साहित्य के विषयों की ओर उतना ही जाना चाहिए जितना वे विज्ञान और टेक्नॉलजी की ओर जाते हैं। अगर ऐसा नहीं होता तो दुनिया में स्त्रैण के लिए कोई जगह नहीं बचेगी,’ सद्गुरु का कहना है। ‘तो यह बहुत जरूरी है कि हम स्त्रैण का उत्सव मनाएं। यह औरत बारे में नहीं है, यह स्त्रैण के बारे में है, उन्होंने आगे कहा।

तीन एपिसोड की श्रृंखला के पहले भाग में सद्गुरु इस बारे में अंतर्दृष्टि देते हैं कि कैसे स्त्रैण को सदियों तक दुनिया में नष्ट किया गया है। दूसरे एपिसोड में वे विभिन्न प्रकार की प्रचंड देवियों, जैसे छिन्नमस्ता इत्यादि, के बारे में बताएंगे, जिनका सृजन योगियों द्वारा किया गया था। अंतिम भाग में सद्गुरु बात करते हैं कि किस तरह हर स्त्री स्वयं को एक दिव्य संभावना में रूपांतरित कर सकती है।

सद्गुरु एक्सक्लूसिव सौ रुपए प्रति माह में सद्गुरु ऐप पर उपलब्ध है। यह जीवन की बेलगाम अभिव्यक्ति, रहस्यवाद, और आध्यात्मिकता का एक अनोखा संगम है। यह सदस्यों को उनकी निजी मुलाकातों और अंतरंग सभाओं के दुर्लभ और अनदेखे वीडियोज़ तक पहुंच प्रदान करता है।

  • Legend News

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *