रूस ने किया पाकिस्‍तान को शर्मिंदा, EEF के लिए न्योते का खंडन किया

मॉस्‍को। पाकिस्तान को कल उस वक्त शर्मिंदगी झेलनी पड़ी जब रूस ने पाक मीडिया के उन रिपोर्ट्स को खारिज कर दिया कि इमरान खान को ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम (EEF) के लिए न्योता दिया गया है।
सितंबर में होने वाली EEF मीटिंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्य अतिथि हैं और पाकिस्तानी मीडिया जोर-शोर से बता रहा था कि इसके लिए इमरान खान को भी न्योता मिला है, जिसे उन्होंने कबूल कर लिया है।
रूस के खंडन के बाद पाकिस्तान को भी स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स को खारिज करने के लिए मजबूर होना पड़ा।
रूस के विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्ट्स को खारिज करते हुए मंगलवार को कहा कि ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम (EEF) के लिए इमरान खान को न्योता नहीं दिया गया है। रूस के शहर व्लादिवोस्तोक में 4 से 6 सितंबर तक होने वाले EEF मीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बतौर मुख्य अतिथि हिस्सा लेंगे।
रूस के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा, ‘हमें उम्मीद है कि मंगोलिया के राष्ट्रपति एच. बट्टुलगा, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मलयेशिया के पीएम महातिर मोहम्मद और जापान के पीएम शिंजो आबे प्रिमोर्ये की राजधानी (व्लादिवोस्तोक) में आएंगे।’
बयान में रूसी राष्ट्रपति के सलाहकार एंटन कोब्याकोव के हवाले से कहा गया है, ‘मुझे पूरा भरोसा है कि प्रधानमंत्री मोदी के शिरकत करने से सुदूर पूर्वी क्षेत्र में दोनों देशों के बीच व्यापार और निवेश पर सहयोग नए उच्च स्तर पर पहुंचेगा। फोरम में भारत के प्रतिनिधित्व और सहभागिता से हमारे देशों के बीच न सिर्फ आर्थिक बल्कि मानवीय क्षेत्र में भी करीबी सहयोग बढ़ेगा।’
कोब्याकोव की EEF के कार्यक्रमों से जुड़ी तैयारियों को देख रहे हैं। EEF में हिस्सा लेने के लिए भारत के कई राज्यों के मुख्यमंत्री भी रूस पहुंच रहे हैं। इसका मकसद सुदूर पूर्व में व्यावसायिक अवसरों को भुनाना है।
रूस के खंडन से पाकिस्तान की छीछालेदर
EEF के लिए इमरान खान को न्योते की रिपोर्ट्स का रूस ने जिस तरह से खंडन किया है, उससे पाकिस्तान की छीछालेदर हुई है।
दरअसल, पाकिस्तानी मीडिया ने पिछले हफ्ते खबर दी थी कि इमरान खान ने राष्ट्रपति पुतिन का आमंत्रण स्वीकार कर लिया है। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि पिछले महीने बिश्केक में हुए शंघाई सहयोग संगठन (SCO) शिखर सम्मेलन के इतर दोनों नेताओं की बातचीत के दौरान पुतिन ने इमरान को यह न्योता दिया था।
इमरान को न्योते की रिपोर्ट्स को रूस ने जब खारिज कर दिया तो पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने भी मंगलवार को बयान जारी कर कहा कि इस बारे में मीडिया रिपोर्ट्स सिर्फ अटकलें हैं। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने ट्वीट कर कहा कि इमरान के EEF में जाने की रिपोर्ट्स अटकलें हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *