RSS ने प्रतिनिधि सभा की बैठक में कहा, जल्द निकले राम मंदिर पर समाधान

RSS ने प्रतिनिधि सभा की बैठक में कहा, जल्द निकले राम मंदिर पर समाधान
RSS ने प्रतिनिधि सभा की बैठक में कहा, जल्द निकले राम मंदिर पर समाधान

ग्‍वालियर। ग्वालियर में चल रही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ RSS की प्रतिनिधि सभा की बैठक में मंदिर निर्माण में आने वाली रुकावटों को दूर करने की अपील की गई है। बता दें कि ग्वालियर में 8 से 10 मार्च तक संघ प्रतिनिधि सभा की बैठक का आयोजन किया गया है।
गौरतलब है कि अयोध्या विवाद को सुलझाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने कल मध्यस्थता का रास्ता अपनाने को एक पैनल का गठन किया है। सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद के सर्वमान्य समाधान के लिए यह बड़ा फैसला लिया है। सुप्रीम कोर्ट ने इसके लिए 3 सदस्यीय पैनल गठित किया है।
RSS ने सबरीमाला मंदिर मामले का उदाहरण देते हुए सवाल उठाया कि आखिर न्याय प्रक्रिया तेज किए जाने के बावजूद राम जन्मभूमि मामले का समाधान क्यों अब तक नहीं निकल पाया। हालांकि RSS ने यह भी कहा कि उन्हें न्याय व्यवस्था में पूरा भरोसा है लेकिन इस मामले का हल जल्द निकलना चाहिए और मंदिर निर्माण के लिए आने वाली बाधाओं को दूर किया जाना चाहिए।
अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की ग्वालियर में तीन दिवसीय बैठक के दौरान आरएसएस ने इन मुद्दों को उठाया। RSS ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर टिप्पणी के क्रम में सबरीमाला मंदिर का उदाहरण दिया। RSS ने कहा, ‘इस मामले में (सबरीमाला) किसी भी पक्ष यहां तक कि पीठ की एक मात्र महिला सदस्य के विचार को भी तवज्जो नहीं दिया गया। वहीं दूसरी तरफ राम जन्मभूमि का मामला लंबे समय से लंबित है। कानूनी प्रक्रिया तेज होने के बावजूद अब तक समाधान नहीं निकला और अब सुप्रीम कोर्ट का रुख हैरान करने वाला है।’ आरएसएस ने कहा कि यह समझ से परे है कि हिंदुओं की आस्था से जुड़े इस संवेदनशील मामले को सुप्रीम कोर्ट ने प्राथमिकता नहीं दी।
‘जल्द निकले राम मंदिर पर समाधान’
RSS ने दो टूक कहा, हमें लगता है कि हिंदुओं की लगातार उपेक्षा हो रही है। न्याय व्यवस्था में भरोसा जताते हुए आरएसएस ने उम्मीद जताई की राम मंदिर मामले में जल्द समाधान निकलेगा और मंदिर निर्माण के लिए सभी बाधाओं को दूर कर लिया जाएगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »