आरएमएल की कंसलटेंट रेडियोलोजिस्ट Poonam Vohra ने किया सुसाइड

डॉक्टर Poonam Vohra ने सुसाइड नोट में तीन डॉक्टरों पर लगाया “अपमानजनक व्यवहार और परेशान करने” का आरोप 

नई दिल्ली। दिल्ली स्थित केंद्र सरकार के राम मनोहर लोहिया (आरएमएल) अस्पताल की 52 वर्षीय एक सीनियर लेडी डॉक्टर Poonam Vohra ने बुधवार को नॉर्थ एवेन्यू स्थित अपने सरकारी फ्लैट में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। मृतक डॉक्टर की पहचान राममनोहर लोहिया अस्पताल की कंसलटेंट रेडियोलोजिस्ट Poonam Vohra के रूप में हुई है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, नॉर्थ एवेन्यू पुलिस को दोपहर एक बजे इसकी खबर मिली जिसके बाद पुलिस टीम मौके पर पहुंची। प्राथमिक जांच में सामने आया है कि पूनम वोहरा छुट्टी पर थीं। उनके पति और दो बच्चे घटना के समय मौके पर नहीं थे और फ्लैट अंदर से बंद था। पुलिस को मौके से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर आगे की कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है।

पुलिस ने कहा कि डॉक्टर पूनम वोहरा ने सुसाइड नोट में अस्पताल के तीन डॉक्टरों पर “अपमानजनक व्यवहार और परेशान करने” का आरोप लगाया, क्योंकि वह उनके खिलाफ जांच कर रही थीं।

घटना के समय Poonam Vohra घर में थी अकेली

पुलिस ने कहा कि पूनम नॉर्थ एवेन्यू में एक सरकारी आवास में रहती थी। पुलिस ने कहा कि घटना दोपहर 1 बजे की है जब उसके पति चरणजीव वोहरा, जो एक निजी कंपनी के लिए काम करते हैं, घर लौट आए और घर को बंद पाया। घटना के समय दंपति के दो बच्चे स्कूल में थे।

सूत्रों के अनुसार, डॉक्टर पूनम के पति ने जब खिड़की से झांककर देखा तो उन्होंने पूनम को अपने बेडरूम में छत के पंखे से लटका पाया। पड़ोसियों की मदद से, उन्होंने दरवाजा खोला और उसे नीचे उतारा। उन्होंने पुलिस को फोन किया और उसे अस्पताल ले गए जहां पूनम वोहरा को मृत घोषित कर दिया।

चरणजीव वोहरा ने कहा, “पूनम को परेशान किया जा रहा था और मुझे पता था कि वह परेशान थी। हालांकि, मुझे जांच के बारे में कुछ भी पता नहीं है। मुझे पुलिस के पास से सुसाइड नोट मिला है।

पुलिस अस्पताल प्रशासन से कर रही पूछताछ

वहीं, पुलिस उपायुक्त (नई दिल्ली) मधुर वर्मा ने कहा कि सुसाइड नोट बेडरूम में पाया गया। “उसके सुसाइड नोट में सिर्फ एक लाइन लिखी थी – कि ये तीनों डॉक्टर उसे अपमानित और परेशान कर रहे थे। हमें पता चला है कि वह तीन डॉक्टरों के खिलाफ कदाचार से संबंधित कुछ विभागीय जांच कर रही थीं। हमें इन आरोपों के बारे में और अधिक जानने के लिए अस्पताल प्रशासन और महिला के सहयोगियों से पूछताछ करना बाकी है। सुसाइड नोट का भी सत्यापन किया जा रहा है। हालांकि, पुलिस उपायुक्त ने तीनों डॉक्टरों के नाम का खुलासा नहीं किया।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »