देशभक्तिपूर्ण गीतों से गूंजे RK Education के शिक्षण संस्थान

मथुरा। RK Education Hub के सभी शिक्षण संस्थानों राजीव इंटरनेशनल स्कूल, राजीव एकेडमी, KD डेंटल काॅलेज, GL बजाज और KD मेडिकल काॅलेज-हाॅस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर मथुरा में गणतंत्र दिवस उत्साह-उमंग के बीच मनाया गया। 71वें गणतंत्र दिवस पर राजीव इंटरनेशनल स्कूल के छात्र-छात्राओं ने एक से बढ़कर एक देशभक्तिपूर्ण कार्यक्रम पेश किए। सभी संस्थान प्रमुखों ने राष्ट्रध्वज फहराया।

RK Education Hub के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल, उपाध्यक्ष पंकज अग्रवाल, चेयरमैन मनोज अग्रवाल तथा के. डी. मेडिकल काॅलेज के डीन डाॅ. रामकुमार अशोका ने अपने संदेश में सभी को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दीं।

अपने उद्बोधन में डाॅ. अशोक कुमार धनविजय ने भारतीय संविधान पर विस्तार से प्रकाश डाला और कहा कि मातृभूमि के सम्मान एवं उसकी आजादी के लिये असंख्य वीरों ने अपने प्राणों की आहुति दी थी। ऐसे ही महान देशभक्तों के त्याग और बलिदान के परिणामस्वरूप हमारा देश गणतांत्रिक देश हो सका। ऐसे में हमारा फर्ज है कि हम महापुरुषों के आदर्शों पर चलकर देश की सम्प्रभुता को अक्षुण्य रखें।

मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डाॅ. राजेन्द्र कुमार ने कहा कि गणतंत्र का अर्थ है जनता के द्वारा जनता के लिये शासन। इस व्यवस्था को हम सभी पिछले 70 साल से गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते आ रहे हैं। 1950 में जब देश ने पहला गणतंत्र दिवस मनाया, उस वक्त का जज्बा, उस जमाने के लोगों के जज्बात और आज के हालात में बहुत फर्क आ गया है। अब हम अपने राष्ट्रीय पर्व तो मनाते हैं लेकिन उनमें औपचारिकता की सिकुड़न आ गयी है। लोगों के दिलों में अब वह उत्साह हिलोरें नहीं मारता।

के.डी. डेंटल कालेज के प्राचार्य डाॅ. मनेष लाहौरी ने कहा कि भारत को एशिया का सबसे बड़ा गणतंत्र होने का गौरव प्राप्त है, यहां सभी धर्म, सम्प्रदाय, क्षेत्र, जाति, समुदाय व वर्ग के लोग रहते हैं। भारत की गरिमा और सम्प्रभुता को बरकरार रखना सिर्फ सैनिकों का ही नहीं बल्कि हम सबका कर्तव्य है।

राजीव एकेडमी के निदेशक डाॅ. अमर कुमार सक्सेना ने कहा कि हमारे संविधान का अस्तित्व महिलाओं के बिना अधूरा है। देश की सम्प्रभुता में महिलाओं का अतुलनीय योगदान है। हमारा तिरंगा हर भारतीय के अंदर उत्साह, स्वाभिमान और गौरव का संचार करता है। आज के ही दिन डॉ. राजेंद्र प्रसाद व डॉ. भीमराव अम्बेडकर जैसे सपूतों ने भारत को दुनिया का अग्रदूत या जगद्गुरु बनाने का सपना देखा था।

जी. एल. बजाज के निदेशक डाॅ. एल. के. त्यागी ने कहा कि 26 जनवरी का दिन प्रत्येक भारतीय को महापुरुषों के आदर्शों पर चलने की नसीहत देता है। आज आवश्यकता है अपने कुविचार व कुसंस्कार के खिलाफ लड़ने की।

राजीव इंटरनेशनल स्कूल के प्राचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल ने छात्र-छात्राओं को बताया कि आज के ही दिन भारत पूर्ण स्वतंत्र गणराज्य बना था, इसलिए इस दिन का विशेष महत्व है। 71वें गणतंत्र दिवस पर सभी संस्थानों के प्राध्यापक, छात्र-छात्राएं तथा अन्य अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे।

  • Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *