नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में RJD MLA को आजीवान कारावास

पटना। नाबालिग से दुष्कर्म मामले में आरोपी राजद से निलंबित विधायक राजवल्लभ यादव को पटना के एमएलए-एमपी कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही पचास हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया है। मामले में आरोपी रही सुलेखा देवी को भी उम्रकैद की सजा और 20 हजार का अर्थदंड लगाया गया है। इसके साथ ही अन्य चार दोषियों को 10- 10 साल जेल की सजा सुनाई गई है।
बता दें कि 15 दिसंबर को इस मामले की कोर्ट में सुनवाई हुई थी, जिसमें राजवल्लभ यादव और अन्य पांचों आरोपी कोर्ट पहुंचे थे। इस मामले की सुनवाई पटना के एमएलए-एमपी कोर्ट में हुई थी।

यह है पूरा घटनाक्रम 

यह मामला एक 15 वर्षीय छात्रा के साथ दुष्कर्म का है। बिहारशरीफ की रहने वाली छात्रा को उसकी पड़ोसी सुलेखा देवी यह कहकर अपने साथ ले गई थी कि उसे एक जन्मदिन की पार्टी में चलना है। छात्रा जब उसके साथ एक घर में पहुंची तो वहां कोई पार्टी नहीं चल रही थी। बल्कि वहां विधायक राजबल्लभ मौजूद थे। रिपोर्ट के अनुसार RJD MLA राजबल्लभ और सुलेखा ने एक साथ शराब पी और छात्रा को भी जबरन शराब पिलानी चाही। छात्रा ने इससे इंकार किया तो विधायक ने उसे एक पोर्न फिल्म दिखाते हुए कहा कि वह भी ऐसे ही करे जैसा फिल्म में चल रहा है।

जब छात्रा ने उस घर से निकलने का प्रयास किया तो विधायक के बॉडीगार्ड ने उसे पकड़कर वापिस विधायक के कमरे में धकेल दिया। पुलिस को दिए बयान में छात्रा ने बताया था कि विधायक ने अपने बॉडीगार्ड्स से कहा अगर वह पोर्न फिल्म की हीरोइन की तरह नहीं करती है तो वह उसके साथ बारी बारी से दुष्कर्म करें। इसके बाद विधायक ने भी छात्रा से दुष्कर्म किया। घटना के बाद छात्रा जैसे- तैसे पुलिस के पास पहुंची और आपबीती सुनाई। मामला सत्ताधारी पार्टी से जुड़ा होने के कारण पुलिस ने न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने छात्रा के बयान दर्ज कराए। छात्रा ने फोटो देखकर आरोपी विधायक की पहचान की। घटना 6 फरवरी 2016 की शाम की है।

नौ फरवरी 2016 को राजवल्लभ यादव ने एक नाबालिग लड़की को शराब पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया था। पीड़िता ने आरोप लगाया था कि आरोपियों में शामिल सुलेखा देवी ने बर्थ डे पार्टी के बहाने अनजान जगह पर ले जाकर उसे जबरन शराब पिलाई और फिर उसे राजवल्लभ के हवाले कर दिया। राजवल्लभ ने नाबालिग से दुष्कर्म किया था।
राजबल्लभ प्रसाद को आईपीसी की धारा 376 एवं पॉक्सो की धारा 4 व 8 के तहत दोषी करार दिया गया है। वहीं अभियुक्त सुलेखा देवी एवं राधा देवी को आपराधिक षड्यंत्र रचने के लिए व आईपीसी की धारा 109, 120बी एवं 376 के तहत तथा इम्मोरल ट्रेफिक एक्ट के तहत धारा 4 एवं 5 तथा पॉक्सो एक्ट की धारा 4 एवं 8 के तहत दोषी करार दिया गया था।
मामले में अन्य अभियुक्त संदीप सुमन उर्फ पुष्पांजय, छोटी देवी व टूसी देवी को आपराधिक षड्यंत्र रचने एवं आईपीसी की धारा 366 ए के तहत तथा अनैतिक देह व्यापार अधिनियम की धारा 4 एवं 5 के तहत दोषी करार दिया गया था और सबको दस-दस साल जेल की सजा सुनाई गई है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »