Rising Star ने किया दृष्टिहीनों के लिए यात्रा का आयोजन

नई दिल्ली। Rising Star टूर्स एंड ट्रैवल्स (आरएसटीटी), दिल्ली की एक प्रमुख टूर ऑपरेटर ने देश भर से आने वाले दृष्टिहीनों के लिए 3 दिवसीय साईट-फीलिंग यात्रा का आयोजन किया। Rising Star टूर्स एंड ट्रैवल्स का उद्देश्य दुनिया को दृष्टिहीन लोगों के लिए खोलना है जो दुनिया को खोजना चाहते हैं, लेकिन कई कारणों से किसी तरह आशंकित रहते हैं। आरएसटीटी भारत का एकमात्र ऐसा संस्थान है जिसने दृष्टिहीनों को इंद्रियों के माध्यम से दुनिया को देखने में मदद करने की यह पहल की है।

इस अद्भुत यात्रा कि शुरुआत दिल्ली से जयपुर के लिए एक अनुभव-भरी बस यात्रा के साथ हुई जिसमें समय-समय पर रुकना और मनभावन भोजन शामिल थे। यात्रा कार्यक्रम के अनुसार, जयपुर में द रिसोर्ट में बस रुकी। विश्राम और जलपान के बाद, यात्रियों को सिटी पैलेस, आमेर का किला, जल महल तथा हवा महल के दर्शनों के लिए ले जाया गया। उन्होंने घोड़े और ऊंट की सवारी जैसी अन्य रोमांचक गतिविधियों में भी आनंद लिया, जिसके बाद उन्होंने स्थानीय राजस्थानी परिधानों की खरीदारी की, जो सभी सदस्यों के लिए बेहद संतोष देने वाली बात थी। उन्हें न केवल इन स्थानों पर ले जाया गया, बल्कि हर चीज को स्पर्श और महसूस भी करने दिया गया।

इस 3 दिवसीय यात्रा में दृष्टिहीनों और स्वयंसेवकों सहित कुल 70 लोग शामिल थे। दृष्टिहीनों में विभिन्न पृष्ठभूमि और व्यवसायों जैसे बैंकिंग, बीमा, रक्षा, शिक्षण और सार्वजनिक उपक्रमों के कामकाजी पेशेवर और छात्र शामिल थे। अधिकांश सदस्य अन्य लोगों द्वारा प्रायोजित थे, और बाकी आरएसटीटी द्वारा प्रायोजित किये गए थे।

9 महीनों में आरएसटीटी ने 3 यात्राएं की हैं (प्रायोजक और आयोजक के रूप में), पहली यात्रा पंगोट (नैनीताल), दूसरी ऋषिकेश (शिवपुरी) और तीसरी जयपुर कि थी।

यात्रा के समग्र अनुभव से प्रसन्न होकर, राइजिंग स्टार टूर्स एंड ट्रैवल्स (आरएसटीटी) के संस्थापक, अमित जैन, ने कहा, “यह आरएसटीटी द्वारा अभी तक की एक और सफल यात्रा थी, जहां हमारा ध्यान नेत्रहीन समुदाय को सहायक यात्रा प्रदान करना था। हम उन्हें एक पूरी नई दुनिया की खोज में और उसका एक हिस्सा बनने में उनकी मदद करना चाहते हैं। यह चैरिटी के बात नहीं है, यह खुशी फैलाने से जुदा हुआ है।“ उन्होंने अपने इस शानदार पहल “किसी कि आँख बनें” का हिस्सा बनने के लिए सामाजिक रूप से प्रभावी प्रमुख लोगों को आमंत्रित किया ताकि वे इस कार्यक्रम को आगे ले जाएं और इसे विस्तारित करें। उन्होंने कहा कि साथ मिलकर हम यह कर सकते हैं और हम इसे साथ ही करेंगे।

उन्होंने आगे कहा, “सभी ने यात्रा का आनंद लिया और खुश रहना सीखा। इन लोगों में यह जुनून देखकर और बिना किसी के मदद के अपने आप को व्यवस्थित करने का तरीका देखकर अच्छा लगा। हमारा मानना है कि यात्रा केवल एक समग्र अनुभव तब बन जाती है जब हम अपने सभी इन्द्रियों को शामिल करते हैं। इस प्रकार, हम हर 3 महीने में इस तरह की अद्भुत यात्राओं का आयोजन करते रहेंगे और इन लोगों को दुनिया को महसूस करने और तलाशने में मदद करते रहेंगे।“

-PR

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »