जज के कुरान बांटने वाले आदेश के ख‍िलाफ हाईकोर्ट जाऐंगी Richa Bharti

रांची। सोशल साइट पर धर्म विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी मामले में पांच कुरान बांटने की शर्त पर जमानत पर बाहर आई Richa Bharti ने निचली अदालत के अजीबोगरीब फैसले को मानने से इन्कार कर दिया है। Richa Bharti ने कहा है कि मैं कुरान बांटने नहीं जा रही हूं। हमारा परिवार निचली अदालत के इस फैसले पर विचार कर रहा है। हम ऊपरी अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे। ऋचा पटेल से जब यह पूछा गया कि कोर्ट ने उन्हें इसी शर्त पर जमानत दी है। इसके जवाब में ऋचा ने कहा कि नहीं, मैं कोर्ट का आदेश नहीं मानने जा रही हूं। आज मुझे कुरान बांटने के लिए बोल रहे हैं, कल बोलेंगे इस्लाम स्वीकार कर लो, नमाज पढ़ लो, कुछ और कर लो। यह कहां तक जायज है।

गौरतलब है क‍ि कल सोमवार को ऋचा भारती को न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की अदालत ने उसे बेतुकी सजा सुनाते हुए सशर्त जमानत दे दी। जज ने कहा, आरोपित को 15 दिनों के अंदर पांच कुरान बांटना होगा। अगर इसकी अवहेलना की गई तो जमानत रद हो सकती है। सात हजार के दो निजी बांड जमा करने के बाद सोमवार को ऋचा जेल से बाहर आ गई। ऋचा भारती पर सोशल साइट पर एक धर्म विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में जेल में बंद थी।

पिठोरिया के सोनार मोहल्ला की ऋचा भारती (19) को राहत तो मिल गई परंतु जेल से बाहर आते ही ऋचा ने कहा कि नहीं, मैं कोर्ट का आदेश नहीं मानने जा रही हूं। आज मुझे कुरान बांटने के लिए बोल रहे हैं, कल बोलेंगे इस्लाम स्वीकार कर लो, नमाज पढ़ लो, कुछ और कर लो। यह कहां तक जायज है। हम जज के इस फैसले के ख‍िलाफ हाई कोर्ट जाऐंगे।

12 जुलाई को भेजा गया था गया था जेल
सोशल साइट पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने को लेकर 12 जुलाई को सदर अंजुमन कमेटी, पिठोरिया द्वारा थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। शिकायतकर्ता की ओर से कहा गया कि पिछले तीन दिनों से ऋचा फेसबुक साइट पर धर्म विशेष के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी कर रही है। इसे प्रचारित कर रही है। इससे क्षेत्र में कभी भी धार्मिक भावना भड़क सकती है। प्राथमिकी दर्ज होने के तीन घंटे के भीतर ऋचा भारती को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वहीं, जेल भेजे जाने के बाद लगातार हिंदू संगठनों द्वारा धरना-प्रदर्शन किया जा रहा था। लोगों ने पिठोरिया बंद भी बुलाया था। – एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »