कश्मीर में लौटने लगा सुकून, क्रिकेट खेलते देखे गए युवक

श्रीनगर। आर्टिकल 370 हटाए जाने के पहले से ही डर, बंदी और कर्फ्यू झेल रहे कश्मीर में अब सुकून लौटने लगा है। विशेष राज्य का दर्जा हटाए जाने और केंद्र शासित राज्य बनाए जाने के करीब 16 दिन बाद घाटी में हालात सामान्य हो रहे हैं। बुधवार को दिन के समय प्रशासन ने प्रतिबंध में ढील जारी रखी तो युवाओं ने चटख धूप में बाहर निकलकर क्रिकेट का लुत्फ उठाया।
बुधवार को कश्मीर के त्राल जिले में युवाओं ने एक कच्चे-पक्के मैदान में क्रिकेट खेला। इस दौरान उनके चेहरे चमकते हुए नजर आए। स्थानीय लोगों का कहना है कि यहां बच्चों के खेलने के लिए प्लेग्राउंड होना चाहिए और स्कूलों में भी बेहतर सुविधाएं होनी चाहिए। त्राल के ही रहने वाले एक शख्स ने कहा, ‘यहां हमारे बच्चों के खेलने के लिए जगह होनी चाहिए, स्कूलों में भी सुधार होना चाहिए, गांव में खेती-किसानों भी होनी चाहिए और आंगनबाड़ी केंद्रों में खाने की क्वॉलिटी में भी सुधार होना चाहिए। मुझे सरकार पर पूरा भरोसा है कि नरेंद्र मोदी अच्छे इंसान हैं, हमारे लिए काम करेंगे।’
जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद लोगों को आ रही असुविधाओं को लेकर प्रशासन द्वारा शुक्रवार को शिकायतों की खुली सुनवाई की जाएगी। जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा हटाए जाने के बाद से पहली बार राज्यपाल सत्यपाल मलिक के एडवाइजर के के शर्मा लोगों के साथ बैठक कर उनकी बात सुनेंगे।
लोगों की समस्याएं सुनेंगे गवर्नर के एडवाइजर
हालांकि पिछले काफी दिनों से घाटी में मोबाइल सेवा बैन होने से लोगों को दिक्कतें आ रही हैं। फिलहाल लैंडलाइन सेवा के जरिए रिश्तेदारों से बात करने की सुविधा दी जा रही है। जम्मू-कश्मीर के सूचना निदेशालय ने प्रेस रिलीज जारी कर रहा कि जम्मू-कश्मीर गवर्नर सत्यपाल मलिक के एडवाइजर के के शर्मा शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद लोगों से मुलाकात करेंगे। श्रीनगर के सोंवर के चर्च लेन स्थित राज्यपाल के शिकायत सेल पर यह मीटिंग सुबह 10 बजे से 12 बजे तक चलेगी।
जुमे की नमाज के बाद सुनी जाएंगी शिकायतें
बुधवार को जारी रिलीज में कहा गया, ‘इच्छुक व्यक्तियों और शिष्टमंडलों से अनुरोध किया जाता है कि वे अपनी शिकायत के निवारण के लिए राज्यपाल के शिकायत सेल, चर्च लेन, सोंवर के कार्यालय में खुद को रजिस्टर करें।’ दूसरी ओर, घाटी में प्रतिबंधों के ढील के बाद अब हालात सामान्य होने लगे हैं।
प्रतिबंधों में छूट जारी, स्कूलों से छात्र नदारद
कश्मीर में प्रशासन ने बुधवार को दिन के समय प्रतिबंधों में ढिलाई जारी रखी लेकिन माध्यमिक स्कूल खोले जाने के प्रशासनिक आदेश के बाद भी छात्र नदारद रहे। अधिकारियों ने बताया कि प्रशासन ने शहर के कई हिस्सों सहित कश्मीर के अन्य हिस्सों में प्रतिबंधों में छूट दी गई है। उन्होंने बताया कि शहर के पॉश इलाके और सिविल लाइन क्षेत्रों से अवरोधक हटाए गए हैं लेकिन कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सुरक्षा बल अब भी तैनात हैं। हालांकि शहर के कई हिस्सों खास तौर पर डाउनटाउन के कुछ हिस्सों में प्रतिबंध जारी है।
बच्चे को स्कूल भेजने से क्यों कतरा रहे पैरंट्स?
अधिकारियों ने बताया कि ज्यादातर निजी स्कूल खाली पड़े हैं क्योंकि यहां से छात्र अब भी नदारद ही हैं। हालांकि कर्मचारी कुछ संस्थानों में आ रहे हैं। उनका कहना है कि मौजूदा हालात की वजह से अभिभावक बच्चों को स्कूल भेजने से बच रहे हैं। सरकार ने पिछले हफ्ते प्राइमरी स्कूलों को सोमवार से खोलने का आदेश दिया था लेकिन स्कूल में छात्र नहीं आए। बाद में अधिकारियों ने माध्यमिक विद्यालयों को भी खोलने का आदेश दिया लेकिन स्कूलों के सही से संचालन के सरकार के तमाम दावे के बाद भी बच्चे स्कूल नहीं आए।
लाल चौक की घेराबंदी 15 दिन बाद हटी
सरकार ने मंगलवार को कहा कि राज्य के 22 जिलों में से 12 जिलों के ज्यादातर हिस्सों में जनजीवन सामान्य चल रहा है। श्रीनगर के ऐतिहासिक लाल चौक क्षेत्र के मशहूर घंटा घर की घेराबंदी 15 दिन बाद हटाई गई है। योजना व विकास के मुख्य सचिव और सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने शाम में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा कि जम्मू-कश्मीर के 197 पुलिस स्टेशन क्षेत्रों में से 136 पुलिस स्टेशन क्षेत्रों में दिन के प्रतिबंध हटाए गए हैं।
73 हजार लैंडलाइन बहाल
कंसल ने बताया कि जिन इलाकों में छूट दी गई है, वहां सार्वजनिक यातायात शुरू हो गया है और अंतर-जिला यातायात भी शुरू हो चुका है। उन्होंने बताया कि श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग और श्रीनगर हवाई अड्डा सामान्य रूप से काम कर रहा है। सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि 93,000 लैंडलाइन टेलीफोन में से 73,000 लैंडलाइन बहाल कर दिया गया है और बाकी जल्द ही शुरू होगा। अधिकारियों ने बताया कि सरकारी कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति में सुधार हो रहा है। हालाकि बाजार अब भी बंद हैं। उन्होंने बताया कि 17वें दिन भी मोबाइल सेवा और इंटरनेट बंद है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »