कुंडों के जीर्णोद्धार का मामला विनीत नारायण सहित प्रशासन के भी गले की फांस बना, NGT ने तलब किए DM, SSP, SDM और DFO

मथुरा। विश्‍व विख्यात गिरि गोवर्धन स्‍थित कुंड और तालाबों के जीर्णोद्धार में बरती गई भारी अनियमितता अब न केवल ब्रज फाउंडेशन व उसके अध्‍यक्ष विनीत नारायण बल्‍कि जिला प्रशासन के लिए भी गले की फांस बन गई है।
नेशनल ग्रीन ट्रेब्‍यूनल (NGT) ने आज इस मामले की गंभीरता को देखते हुए आगामी 24 तारीख पर डीएम, एसएसपी, एसडीएम सहित डीएफओ को भी उपस्‍थित होने का आदेश दिया है।
उल्‍लेखनीय है कि इससे पहले एसडीएम गोवर्धन डीपी सिंह ने बृज फाउंडेशन के अध्‍यक्ष विनीतनारायण को चेतावनी देते हुए जवाब तलब किया था।
एसडीएम के अनुसार प्रत्‍येक कुंड/तालाब/सरोवर में जलसंचयन के दो स्रोत होते हैं। पहला उसका अपना प्राकृतिक भूगर्भीय स्रोत व दूसरा वर्षा जल से संचित स्रोत। बृजफाउंडेशन द्वारा जीर्णोद्धार कराये गये उक्‍त सभी कुंडों में दोनों स्रोतों का अभाव है।
एसडीएम ने विनात नारायण को लिखा है कि इन कुडों में आपके द्वारा बोरिंग से जलस्‍तर बढ़ाया जाता है जिससे भूगर्भिक जलस्रोत की कमी हो रही है जबकि मथुरा जनपद पहले से ही ड्राई जोन घोषित है।
इसके अलावा कुंडों में चारों ओर दीवार लगाकर वर्षा जल का प्रवेश रोक दिया गया है तथा वर्षा जल के संचयन हेतु कोई तंत्र विकसित नहीं किया गया है।
इसी प्रकार बृज फाउंडेशन द्वारा जीर्णोद्धार के पश्‍चात उक्‍त तीनों कुंडों के जलमग्‍न क्षेत्रफल में आधे से लेकर दो तिहाई तक की कमी आ गई है जिससे कुडों/तालाबों का मूल स्‍वरूप बिगड़ गया है और वह जलमय ना होकर कंक्रीटमय हो गया है।
इसके अलावा परंपरानुसार कुंडों में ना केवल मनुष्‍यों अपितु पशु पक्षियों तक के लिए पानी पीने की व्‍यवस्‍था रहती है जैसे गऊघाट बनाकर गायों व अन्‍य पशु पक्षियों को पानी पीने हेतु मार्ग उपलब्‍ध कराया जाता है किंतु आपके फाउंडेशन द्वारा जीर्णोद्धार के पश्‍चात उक्‍त प्राचीन व्‍यवस्‍था को पूर्णत: समाप्‍त कर दिया गया है।
इसके अतिरिक्‍त कुडों के चारों तरफ ग्रिल व फेंसिंग के माध्‍यम से पक्षियों का जलस्रोत तक सुगम आवागमन बाधित कर दिया गया है।
उपर्युक्त सभी विसंगतियों पर तत्‍काल आवश्‍यक कार्यवाही
कर उनका समुचित निस्‍तारण करायें तथा कुडों/ तालाबों को उनका मूल स्‍वरूप प्रदान करने हेतु समुचित कार्यवाही करें अन्‍यथा आपके विरुद्ध नियमानुसार विधिक कार्यवाही अमल में लाई जाएगी जिसके लिए आप पूरी तरह उत्‍तरदायी होंगे।
21 मई को यानी बीते कल एसडीएम गोवर्धन ने फिर ब्रज फाउंडेशन के अध्‍यक्ष विनीत नारायण को नोटिस देकर पूछा कि आपने ऋण मोचन, रुद्र कुंड व संकर्षण कुंड की खुदाई से निकली मिट्टी का क्‍या किया, वह मिट्टी कहां गई।
क्‍या कुंडों की खुदाई से पूर्व आपके द्वारा मिट्टी खुदाई की अनुमति ली गई थी। यदि ली गई थी तो उससे संबंधित अनुमति पत्र की छायाप्रति पेश करें।
यदि कुंडों की सफाई के दौरान पुरातात्‍विक महत्‍व के कोई अभिलेख अथवा मूर्ति निकली थी तो उसका भी विवरण प्रस्‍तुत करें।
एसडीएम ने इस संबंध में 21 तारीख को ही सूचना उपलब्‍ध कराने अन्‍यथा विधिक कार्यवाही करने की चेतावनी भी ब्रज फाउंडेशन के अध्‍यक्ष विनीत नारायण को दी थी।
गौरतलब है कि इससे पहले आन्‍यौर व जतीपुरा के पूर्व प्रधानों सहित जतीपुरा की वर्तमान प्रधान ने भी NGT के समक्ष पेश होकर इस बात की पुष्‍टि की थी कि उनके सामने संकर्षण और रुद्र कुडों के जीर्णोद्धार का न तो कोई प्रस्‍ताव आया और न उन्‍हें इस बारे में कोई जानकारी है।
प्रधानों के पूर्व में दिए गए बयानों को देखते हुए NGT ने आज प्रशासन की ओर से उपस्‍थित हुए एसडीएम से पूछा कि जिला प्रशासन ने इस इतने गंभीर मामले में कोई इंक्‍वायरी करना जरूरी क्‍यों नहीं समझा और किस तरह ब्रज फाउंडेशन ने बिना किसी आदेश के सार्वजनिक कुंडों का जीर्णोद्धार किया।
-Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »