ब्राह्मण संवाद: ‘रुनकता’ को पर्यटन तीर्थ घोषित करने की मांग

आगरा। ब्राह्मण प्रोफेशनल एसोसिएशन, अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद, अखिल भारतवर्षीय ब्राह्मण महासभा एवं महिला प्रकोष्ठ जिला आगरा के संयुक्त तत्वावधान में “समस्त ब्राह्मणों के आराध्य और हिंदुओं के आस्था स्थल, रुनकता, आगरा क्षेत्र के विकास हेतु” संवाद का आयोजन क‍िया गया। कार्यक्रम की शुरुआत राष्ट्रगान और भगवान श्री परशुराम के चित्र पर माला और दीप जला कर, होटल पिएल पैलेस, आगरा में विप्र समाज ने किया।

संवाद में कहा गया कि‍ आगरा का ब्राह्मण समाज उन सभी राजनैतिक दलों और सामाजिक संगठनों का आभार व्यक्त करता है, जिन्होंने समाज के प्रति सद्भावना अभिव्‍यक्‍त की है। समाज हमेशा अपने को राजनीति से परे रखता रहा है, इसी के दृष्टिगत अब भी ब्राह्मण अपने को तटस्थ ही मानते हैं किन्तु यह जरूर अपेक्षा करते हैं कि समाज की भावनाओं के अनुरूप हिन्दुओं में श्रद्धा स्थल के रूप में मान्य आगरा जनपद की किरावली तहसील के अछनेरा विकास खंड के तहत आने वाला रुनकता गांव को पर्यटन तीर्थ का गांव घोषित किया जाये। यमुना तटीय यह गांव ब्राह्मणों के आराध्य महर्षि परशुराम की पौराणिक गाथाओं से जुड़ा हुआ है।

संवाद के दौरान कहा गया कि ब्राह्मणों की सक्रियता हालांकि समूचे ब्रह्माण्ड में मानी जाती है लेकिन भारत शैव, वैष्णव तथा सनातन धर्म के उद्भव का स्थान भारत भूमि आदि काल से ब्राह्मणों के लिये आराध्य रही है। देश में जो स्थान ब्राह्मणों के लिये खास महत्व रखते हैं, उनमें आगरा का रुनकता गांव ब्राह्मणों के लिये हमेशा से खास महत्व रखता है।

हम इसलिये रुनकता गांव के मंदिरों के बारे में आग्रह और ध्यान आकर्षित कर रहे हैं, इन प्राचीन आस्था स्थलों में माता रेणुका और ऋषि जमदग्नि (जगदम्बिका ) का मंदिर मुख्य है। यहां माता रेणुका जी का मंदिर ही नहीं अपितु पवित्र घाट भी है। इस घाट का पौराणिक महत्व होने के साथ ही यह बृजक्षेत्र का सीमांत स्थान है, जिसके बाद बृज का प्रभाव क्षेत्र शुरू हो जाना माना जाता है यानी वह क्षेत्र जो बृज की सीमा में तो नहीं है लेकिन बृज की भाषा, खानपान, गोवर्धन पूजन, हल का पूजन, गौ पालन, शाकाहार, भाषा और पहनावा बृज क्षेत्र के अनुरूप ही हैं। ब्राह्मण समाज चाहता है कि हमेशा यमुना की जलधारा से युक्‍त रहने वाले इस घाट का सौंदर्यीकरण हो।

रुनकता को पवित्र तीर्थ गांव बनाने के लिये सभी प्रमुख संगठनों ने आपसी सहमति भी जतायी है। संवाद में एक प्रस्ताव पारित हुआ और इसी को आगे रखकर सभी अपने अपने स्तर से प्रयास में जुटेंगे।

पार‍ित क‍िए गए प्रस्ताव में रुनकता को यूपी टूरिज्म के मानचित्र में लाना है ताक‍ि रुनकता गांव का धार्मिक पर्यटन के गांव के रूप में नोटिफिकेशन हो। उप्र पर्यटन निदेशालय इसे अपने प्रचार साहित्य में शामिल करें। रेणुका मंदिर, हनुमान मंदिर, रेणुका घाट, शनि मंदिर, कुबेर प्रतिमा, परशुराम मंदिर, जगदम्बिका ऋषि मंदिर आदि का इसमें उल्लेख हो।

ब्राह्मण सभा चाहती है कि आगरा के पवित्र ऋषियों की तपस्या स्‍थलों की पहचान एक तपस्वी परिपथ (सर्किट) के रूप हो जिससे कि आस्‍था और धार्मिक भावना वाले आगरा भ्रमणार्थी इन तक पहुंच सकें। राज्य पुरातत्व विभाग को इसका दायित्व सौंपा जाये, जिला पंचायत इसके लिए प्रस्‍ताव पारित करे। जिला पंचायत अध्यक्ष और क्षेत्र से संबधित जिला पंचायत सदस्यों से इसके लिए शासन को प्रस्ताव अग्रसर करवाने का प्रयास किया जायेगा।

रुनकता तक पहुंच मार्ग आगरा -दिल्ली हाईवे पर स्थित होने से यहां धार्मिक पर्यटकों के बड़ी संख्या में पहुंचने की व्यापक संभावनाएं हैं। द्वापर युग के मथुरा जनपद में स्थित अनेक धर्म स्थल देखने के बाद त्रेता युग की घटनाओं से संबधित किसी के लिये भी एक स्वाभाविक जिज्ञासा का कारण हो सकता है। महर्षि जमदग्नि, रेणुका, महर्षि परशुराम जी से संबधित स्थान होने के यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं और भ्रमणार्थियों के लगातार बड़ी संख्या में पहुंचते रहना का अनुमान है, हालांकि काफी संख्या में अब भी आते हैं। जब रुनकता धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में चिन्हित हो जायेगा तब यह संख्या और भी बढ़ जायेगी। ऐसे में गांव की मौजूदा अवस्थापना सुविधाओं का उच्चीकरण एक स्वाभाविक जरूरत है। वर्तमान में भी ग्राम सभा अपने स्तर से इसके लिये प्रयास करती रहती है किन्तु मार्गों के डामरीकरण, नालियों और नालों का तंत्र कीचड़, गंदगी मुक्त करने के लिये उपयुक्‍त क्षमतायुक्त करना तथा यमुना नदी में गांव का ड्रेनेज सीधा जाने से रोककर शोधन हेतु एक एमएलडी क्षमता का सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगवाना हमारी मांगों में शामिल है।

सूरदास पक्षी अभयारण्य की सीमा का रि-नोटिफिकेशन हो
सूर सरोवर पक्षी अभयारण्य की सीमा को लेकर रही आपत्तियों को दृष्टिगत जो सीमा अब तक थी, उसे अमान्‍य कर दिया गया है और इनका रि-नोटिफिकेशन होना है। ब्राह्मण सभा की है मांग है कि रि-नोटिफिकेशन से पूर्व जनसुनवाई की जाये। सभा सरकार से मांग करती है कि सूर सरोवर पक्षी अभयारण्य का रि-नोटिफिकेशन होने को है, जिसे दृष्टिगत जनसुनवाई भी नये सिरे से हो क्योंकि पूर्व में वनक्षेत्र का नोटिफिकेशन बिना जनसुनवाई के ही केवल वन विभाग की मर्जी से कागजी औपचारिकताओं के चलते ही कर डाला गया था। अगर कोई तथाकथित जनसुनवाई हुई भी होगी तो रुनकता ग्राम सभा का नागरिकों के नोटिफिकेशन के समय दर्ज करवाये गये बयानों की फोटो प्रति कभी भी सार्वजनिक नहीं की गयी।
जन सुनवाई सही प्रकार से न होने के कारण सेंचुरी प्रशासन ने गऊघाट जैसे पवित्र तीर्थ और सूरकुटी (सूर श्याम मंदिर) तक को रुनकता के लोगों की पहुंच से बाहर कर दिया। इन दोनों ही स्थानों को धार्मिक दृष्टि से महत्वपूर्ण माना जाता है, इनका उल्लेख बाकायदा आगरा गजेटियर में मौजूद है। कोई भी कानून पवित्र आस्‍था स्‍थलों को नागरिक पहुंच से बाहर करने प्रतिबंध की स्‍वीकारिता नहीं देता। उपरोक्‍त स्थानों को रुनकता ग्राम सभा क्षेत्र में लाया जाये, कम से कम इन तक जन पहुंच तो सहज की ही जाये।
सूरदास जी की प्रतिमा जिसका कि तत्कालीन राष्ट्रपति महामहिम वीवी गिरी ने उद्घाटन एवं अनावरण किया था, वर्तमान में यह भी बदहाली की स्थिति में है। ब्राह्मण सभा इसको रुनकता गांव का अंतरिम भाग मानती है और चाहती है कि रुनकता ग्राम पंचायत इसका सौंदर्यीकरण करवाये।

पौराणिक बृज परिपथ
ब्राह्मण वृंद की सरकार से मांग है कि वह उप्र पर्यटन निदेशालय को पौराणिक बृज वृत्‍त आगरा बनाये जाने के लिये निर्देशित करे। गजेटियर और प्रचलित जानकारियों तथा मौजूद पुरा साक्ष्‍यों व मंदिरों आदि भवनों के आधार पर इसे अपने प्रचार साहित्य में शामिल करें। इसमें योगीराज कृष्ण के प्राकट्य काल के पूर्व के त्रेता युग के रेणुका मंदिर, रेणुका घाट, शनि मंदिर, कुबेर प्रतिमा, परशुराम मन्दिर, जगदम्बिका ऋषि मंदिर आदि का इसमें खास तौर से उल्लेख हो।

ग्रंथालय / पुस्तकालय स्थापना
जनपद के सभी ब्राह्मण, पुरा एवं धार्मिक साहित्य प्रधान एक ग्रंथालय / पुस्तकालय स्थापित करना चाहते हैं, जिसमें पुस्तकों के अलावा आडियो और वीडियो लिटरेचर भी होगा। इसके संबंध में रुनकता के हनुमान मंदिर परिसर में वहां के पुजारी जी ने एक उपयुक्त कक्ष सुझाया है, इसकी शुरुआत एक पुस्तक अलमारी, साहित्य तथा रीडर फ्रेंडली फर्नीचर मन्दिर महंत जी को उपलब्‍ध करवाने के साथ की जायेगी।
ब्राह्मण प्रोफेशनल एसोसिएशन, अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद, अखिल भारतवर्षीय ब्राह्मण महासभा, महिला प्रकोष्ठ ( जिला आगरा) के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस संवाद /पत्रकार वार्ता में डॉ. आर सी शर्मा- इतिहासकार, अनिल शर्मा, डॉ. मधु भारद्वाज, डॉ. पंकज नागाइच, प्रकाश शर्मा, आनंद शर्मा, डॉ. भगवान शर्मा, मनोज दीक्षित, बीना लवानिया, नरोत्तम शर्मा तथा अन्य लोग मौजूद थे।
– Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *