पुलवामा हमले पर देशभर में आक्रोश: जम्मू में प्रदर्शन जारी, मुंबई में ट्रेन रोकी

मुंबई। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा हमले के बाद देशभर में लोग आक्रोशित हैं। देश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शनों से लेकर शांति मार्च तक जारी हैं। जम्मू में शुक्रवार से ही आक्रामक प्रदर्शन जारी हैं। वहीं, मुंबई में शनिवार सुबह गुस्साई भीड़ ने नालासोपारा में रेलवे ट्रैक्स को रोक ब्लॉक कर दिया। प्रदर्शनकारी पाकिस्तान और आतंकवादियों के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। इससे उस रूट की ट्रेनों पर असर पड़ा। हालांकि, कड़ी मशक्कत के बाद ट्रैक्स को खाली करा लिया गया। वहीं, शहर में ज्यादातर लोगों ने घटना के विरोध में अपनी दुकानें बंद कर रखी हैं।
ट्रैक से हटाने की कोशिश
गवर्नमेंट रेलवे पुलिस (GRP) और रेलवे प्रटेक्शन फोर्स (RPF) प्रदर्शनकारियों ने ट्रैक खाली कराए। इससे पहले कई सबअर्बन ट्रेन्स को कैंसल कर दिया गया जबकि लंबी दूरी की ट्रेनें दो घंटे की देरी से चल रही हैं। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। रेलवे प्रवक्ता ने बताया था, ‘नालासोपारा में ट्रैक्स पर प्रदर्शनकारियों के कारण पश्चिम रेलवे की ट्रेनें चर्चगेट से वसई रोड के बीच ही चल ही रही हैं।’
‘करना पड़ सकता है बल का प्रयोग’
पश्चिम रेलवे के मुख्य प्रवक्ता रविंदर कुमार ने लोगों ने ट्रेनें न रोकने की अपील की थी। उन्होंने कहा था कि ऐसा करने से मुंबई की लाइफलाइन पर बहुत बुरा असर पड़ेगा। उन्होंने कहा, ‘विरोध करने का यह तरीका सही नहीं है कि इतनी बड़ी संख्या में यात्रियों को असुविधा में डाल दिया जाए। हम प्रदर्शनकारियों को ट्रैक से हटने के लिए मनाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन वे मान नहीं रहे। दूसरे राज्यों और शहरों से मुंबई आने वाली कई ट्रेनें फंसी हैं और सबअर्बन सेवाएं बुरी तरह से प्रभावित हैं। हमें लोगों को ट्रैक से हटाने के लिए हमें बल का इस्तेमाल करना पड़ सकता है।’ हालांकि, बाद में ट्रैक खाली करा लिए गए।
विरार-नालासोपारा के बीच सेवाएं बंद
नालासोपारा स्टेशन पर लोगों के विरोध प्रदर्शनों के कारण विरार और नालासोपारा के बीच सेवाएं बंद कर दी गईं। यात्रियों से इन स्टेशनों पर न जुटने की अपील की गई। वहीं, चर्चगेट से वसई रोड के बीच ट्रेनें सामान्य तरीके से चल रही हैं। वसई-विरार में शिवसेना जैसे राजनीतिक दलों ने बंद बुलाया है। बता दें कि इससे पहले शुक्रवार से जम्मू-कश्मीर में आक्रामक विरोध प्रदर्शन हुए थे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »