सेंटर फॉर साइंस ऐंड इन्वाइरनमेंट की रिपोर्ट: बर्गर से ‘कम अनहेल्थी’ होता है समोसा

अगर आपके सामने समोसा और बर्गर दोनों रख दिए जाएं, तो आप क्या उठाना चाहेंगे? हम में से कई लोगों के मुंह में दोनों के लिए ही पानी आ जाएगा। वहीं, डायट कॉन्शिअस लोग दोनों से ही तौबा कर लेंगे क्योंकि दोनों ही जंक फूड हैं। समोसा और बर्गर दोनों ही अनहेल्थी माने जाते हैं।
सेंटर फॉर साइंस ऐंड इन्वाइरनमेंट की रिपोर्ट के मुताबिक समोसा बर्गर से ज्यादा हेल्थी या यूं कहें कि ‘कम अनहेल्थी’ होता है। ऐसा इसलिए है कि समोसा फ्रेश मटिरियल से बना होता है। मैदे से लेकर आलू तक ताजे ही इस्तेमाल किए जाते हैं और ये लजीज-स्पाइसी समोसा आपकी प्लेट तक पहुंचने से पहले सीधा गर्म तेल से छनकर निकला होता है।
दूसरी ओर बर्गर बनाने के लिए प्रिजरवेटिव, ऐसिडिटी रेग्युलेटर, फ्रोजन पैटीज जैसी सामग्रियों का इस्तेमाल होता है। रिपोर्ट के अनुसार ताजा बने खाने में ऐसे कोई केमिकल मौजूद नहीं होते हैं, जो अल्ट्रा प्रोसेस्ड फूड में रहते हैं। गौरतलब है कि सीएसई ने ‘बॉडी बर्डन’ नाम से अपनी यह रिपोर्ट सोमवार को जारी की है। इसमें यह बात भी सामने आई है कि भारत में होने वाली कुल मौतों में से 61 फीसदी केवल लाइफस्टाइल और गैर संचारी रोगों (नॉन कम्युनिकेबल डीजीज) की वजह से होती हैं।
-एजेंसी