रिपोर्ट: चीन ने Wuhan में मौतों के आंकड़े 10 गुना कम करके दिखाए

वॉशिंगटन। चीन में कोरोना वायरस से कितनी मौतें हुई? ड्रैगन ने जो आंकड़े सामने रखे, उस पर दुनिया यकीन नहीं कर पा रही। एक स्‍टडी में दावा किया गया है कि चीन ने Wuhan में मौतों के आंकड़े 10 गुना कम करके दिखाए। Wuhan में मौतों का सरकारी आंकड़ा 2,524 है मगर वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी और ओहियो स्‍टेट यूनिवर्सिटी की रिसर्च कहती है कि वुहान में जनवरी से मार्च के बीच 36,000 लोगों की मौत हुई। यह स्‍टडी वुहान के श्‍मशानों के डेटा पर आधारित है।
स्‍टडी के मुताबिक जनवरी से मार्च के बीच वुहान के श्‍मशानों में चौबीसों घंटे अंतिम संस्‍कार हो रहे थे। यह स्‍टडी medRxiv पर पब्लिश की गई है और इसका पीअर रिव्‍यू नहीं हुआ है।
कुछ गड़बड़ नहीं तो इतनी हड़बड़ी क्‍यों
चीन के मुताबिक वुहान में कोरोना का पहला जनवरी की शुरुआत में आया मगर उससे पहले दिसंबर 2019 में ही चीनी मेडिकल फोरम्‍स पर निमोनिया जैसी बीमारी की चर्चा शुरू हो चुकी थी। जनवरी खत्‍म होते-होते वुहान के अस्‍पतालों की कमर टूटने लगी थी। उनके पास 90 हजार बेड थे, होटल और स्‍कूलों में एक लाख बेड्स का इंतजाम और किया गया मगर तब तक बीजिंग ने आधिकारिक आंकड़ा सिर्फ 33,000 का दिखाया।
23 मार्च तक चीन ने वुहान में बाकी जगहों से 42,600 डॉक्‍टर्स और हेल्‍थवर्कर्स भेज दिए थे। वहां 90 हजार पहले से मौजूद थे लेकिन 23 मार्च तक चीन ने सिर्फ 50 हजार मामले दिखाए।
बड़ी डराने वाली है इस स्‍टडी की तस्‍वीर
दोनों यूनिवर्सिटीज ने वुहान के आठ श्‍मशानों में हलचल का डेटा जुटाया। उनके मुताबिक 25 जनवरी तक इन श्‍मशानों में 24 घंटे अंतिम संस्‍कार होने लगे थे। रिसर्चर्स ने सारे डेटा के आधार पर कहा कि फरवरी से पहले ही वुहान में चीन के आधिकारिक आंकड़े से 10 गुना ज्‍यादा मामले सामने आ चुके थे। आमतौर पर वुहान में श्‍मशान रोज चार घंटे चलते हैं। रिपोर्ट के मुताबिक 90 लाख आबादी वाले शहर में आमतौर पर रोज 136 अंतिम संस्‍कार होते हैं मगर जिस स्‍पीड से वहां अंतिम संस्‍कार हो रहे थे, उस हिसाब से दिन में 816 मरीजों का दाह संस्‍कार हो रहा था। इसके अलावा मोबाइल श्‍मशान अलग से। स्‍टडी के मुताबिक किसी-किसी दिन वुहान में 2100 मौतें तक हुईं।
‘चीन ने आंकड़ों में किया बड़ा खेल’
रिसर्चर्स ने अर्न (अस्थि कलश) की सेल का डेटा भी जुटाया। इसके मुताबिक जनवरी से मार्च के बीच करीब 36,000 अर्न खरीदी गईं। स्‍टडी कहती है कि, सारे सोर्सेज से डेटा जुटाने के बाद यह पता चलता है कि वुहान में 23 मार्च तक करीब 36 हजार लोगों की मौत हुई थी। जो कि आधिकारिक आंकड़े – 2,524 के 10 गुने से भी ज्‍यादा है। स्‍टडी के मुताबिक, चीन में 7 फरवरी तक कोरोना के 3,05,000 से 12 लाख मामले थे। इस वक्‍त तक 6,800-7,200 लोगों की मौत हो चुकी थी जबकि चीन ने आधिकारिक आंकड़े में 7 फरवरी तक सिर्फ 13,600 इन्‍फेक्‍शन और 545 मौतें बताईं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *