प्रसिद्ध फैशन डिज़ाइनर सत्य पॉल का देहांत, ईशा योग केंद्र में ली अंत‍िम सांस

कोयंबटूर। जाने-माने फैशन डिजाइनर सत्य पॉल (Satya Paul) का स्ट्रोक आने के चलते तमिलनाड़ु के कोयंबटूर में निधन हो गया है। वह 79 साल के थे। सत्य पॉल को आधुनिक स्त्रियों के लिए साड़ी डिज़ाइनर की तरह काफी जाना जाता है, वे आध्यात्मिक खोज को समर्पित थे।
आज ईशा योग केंद्र में प्राकृतिक कारणों से उनका देहांत हो गया। ईशा फाउंडेशन के संस्थापक सद्गुरु ने ट्विटर पर इसकी पुष्टि करते हुए लिखा, ‘सत्य पॉल असीम उत्साह और अनेक व्यस्तताओं के साथ जीने वाले एक शख्स का बेहतर उदाहरण हैं।

ईशा फाउण्डेशन के संस्थापक, सद्गुरु ने एक ट्वीट संदेश में कहा
सत्य पॉल, अथाह जुनून और जबरदस्त भागीदारी के साथ जीवन जीने के एक ज्वलंत उदाहरण थे। आपने भारतीय फैशन इंडस्ट्री को जो अलग दृष्टि दी है, वह इसके लिए एक सुंदर श्रद्धांजलि है। हमारे बीच आपका होना एक सौभाग्य था। संवेदनाएं और आशीर्वाद।

उनके पुत्र पुनीत नंदा ने फेसबुक पर लिखा, ‘एक गुरु के चरणों में, उनकी इससे अधिक मधुर जीवन यात्रा नहीं हो सकती थी। हमें थोड़ा दुःख तो है, लेकिन ज्यादातर, उनके लिए, उनके जीवन के लिए, और इतने आशीर्वाद के साथ प्रस्थान करने के लिए प्रसन्न हैं।’

सत्यपॉल ने देश विभाजन की कठिनाइयों के साथ यात्रा शुरू की, और वे अपनी पहल से सीखते गए और उन्होंने हमेशा जीवन की प्रचुरता और अचरज को स्वीकार किया। उनकी जिज्ञासु प्रकृति ने उन्हें, 60 के दशक के अंत में शुरुआत करते हुए, रिटेल के क्षेत्र में अग्रणी बनाया और उन्होंने सर्वश्रेष्ठ भारतीय हैंडलूम उत्पादों के निर्यात के रूप में उसका विस्तार किया। इन उत्पादों की यूरोप और अमेरिका के उच्चस्तरीय रिटेल स्टोर्स में बहुत मांग थी। 1980 में, भारत में उन्होंने पहले ‘साड़ी बुटीक’ एल-अफेयर की शुरुआत की, और 1986 में, अपने पुत्र पुनीत के साथ भारत के पहले डिज़ाइनर लेबल को शुरू किया। सत्य पॉल ब्रांड देश के प्रमुख ब्रांडों में से एक बन गया। 2000 में उन्होंने मशाल अपने पुत्र को सौंप दी और 2010 में वे कंपनी से बाहर आ गए।

उनकी सूझबूझ, वित्तीय प्रबंधन की मूल सोच या रणनीति की समझ में नहीं थी, बल्कि कला और सुंदरता के सृजन के प्रति प्रेम के जूनून में थी। उन्होंने परिधानों को वैसे ही बनाया जैसे वह खाना बनाते थे, बिना किसी योजना के और हमेशा अपारंपरिक मार्ग अपनाया।

वैसे दुनिया की सारी सफलताओं के अलावा, सबसे बढ़कर, उनके करीबी लोग उन्हें एक खोजी के रूप में जानते थे। उनकी खोज, 70 की शुरुआत में जे कृष्णमूर्ति की वार्ताओं को सुनने से शुरू हुई। बाद में उन्होंने 1976 में ओशो से नव-संन्यास में दीक्षा लेना चुना। उन्होंने 2007 में सद्गुरु को खोजा और सहज ज्ञान से खुद को योग को अर्पित कर दिया। 2015 में वे उनके परिवार में शामिल हो गए और ईशा योग केंद्र के पूर्ण-कालिक निवासी बन गए।

– Legend News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *