UAE में भारतीय कामगारों को राहत, अब रुपये में कर सकेंगे लेनदेन

दुबई। UAE (संयुक्त अरब अमीरात) में काम करने वाले भारतीय कामगार और पर्यटक अब दुबई के सभी हवाईअड्डों पर भारतीय मुद्रा ‘रुपये’ में लेनदेन किया जा सकेगा। UAE के दुबई एयरपोर्ट के तीनों टर्मिनल और अल मख्तूम हवाईअड्डे पर भारतीय रुपये को लेना शुरू कर दिया गया है, यहां स्थित ड्यूटी फ्री दुकान के एक कर्मचारी ने ‘गल्फ न्यूज’ अखबार को इसकी पुष्टि भी की है।

दुबई एयरपोर्ट पर भारतीय मुद्रा को लेनदेन के लिए स्वीकार किया जाना देश के पर्यटकों के लिए अच्छी खबर है क्योंकि उन्हें रुपये को दूसरी मुद्राओं में परिवर्तित कराने के चलते बड़ी राशि गंवानी पड़ती थी। यूएई से प्रकाशित प्रमुख अखबार ‘गल्फ न्यूज’ ने बताया कि रुपया दुबई में ड्यूटी फ्री दुकानों पर स्वीकार की जाने वाली 16वीं मुद्रा है। पिछले साल दुबई हवाईअड्डे से लगभग 9 करोड़ यात्री गुजरे थे, इनमें 1.22 करोड़ भारतीय थे

भारतीय यात्रियों को इससे पहले तक दुबई हवाईअड्डे पर ड्यूटी फ्री दुकानों से खरीददारी के लिए सामान की कीमत डॉलर, दिरहम अथवा यूरो में चुकानी पड़ती थी। दिसंबर 1983 में दूसरी मुद्राओं को स्वीकार किए जाने की शुरुआत हुई थी। इसके अलावा भारत से काम के लिए दुबई जाने वाले कामगारों को भी इससे फायदा होगा, क्योंकि एयरपोर्ट पर उनके पास मौजूद रुपयों का उपयोग हो सकेगा।

एयरपोर्ट व्यवसाय में 18 फीसदी हिस्सेदारी भरतीयों की

Khaleej Times की एक खबर के मुताबिक ड्यूटी फ्री के चलते 2018 में भारतीय यात्रियों से दुबई एयरपोर्ट पर दो अरब की वार्षिक बिक्री दर्ज की गई है। यह अपने व्यवसाय की 18 फीसदी हिस्सेदारी है। दुबई ड्यूटी फ्री के चलते मौजूदा समय में 47 विभिन्न देशों के 6000 से ज्यादा कर्मचारियों को रोजगार मिला हुआ है। इनमें भारतीयों की तादाद सबसे ज्यादा है।

भारत-यूएई के बीच व्यापार और निवेश बढ़ाने की पहल
भारत और दुबई के बीच व्यापार व निवेश को बढ़ाने की एक पहल की गई है। इसके लिए जेबेल अली बंदरगाह और जाफजा जोन बंदरगाह की शुरुआत हुई है। इन दोनों के लिए दुबई स्थित बंदरगाह संचालक और भारतीय व्यापार हितग्राहियों के बीच एक साझेदारी हुई है। हाल के डीपी वर्ल्ड इंडियन ट्रेडर्स के बाद जाफजा वन में इनक्यूबेशन सेंटर की शुरुआत की थी।

इस पहल का मकसद प्रतिभाशाली भारतीयों के लिए मध्य पूर्व बाजारों में व्यवसायों को साझा मंच मुहैया कराना है। भारत मुख्य रूप से यूएई के सबसे बड़े व्यापार साझेदारों में से एक रहा है, जिसकी जिसकी वार्षिक बढ़त 60 अरब डॉलर से अधिक है।
-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *