राहत: फिरौती की रकम पर भ‍िड़े kol gang के दो इनामी डकैत, दोनों का अंत

चित्रकूट। चित्रकूट के पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार झा ने kol gang के बबुली kol के साथ ही लवलेश कोल के मारे जाने की पुष्टि की है। उन्होंने सतना के पुलिस अधीक्षक से वार्ता के बाद इसकी पुष्टि की है।

बुंदेलखंड में लंबे समय तक पुलिस के साथ जनता को परेशान करने वाले kol gang के कुख्यात डकैत बबुली kol के साथ उसके साले का अंत हो गया है। बबुली कोल पर छह लाख तथा साले लवलेश कोल पर डेढ़ लाख का इनाम घोषित था।

उत्तर प्रदेश के साथ मध्य प्रदेश के पाठा इलाके में करीब डेढ़ दशक से सक्रिय छह लाख रुपये का इनामी डकैत बबुली कोल का मारा गया है। उसका साथी और साला डेढ़ लाख रुपये का इनामी लवलेश कोल भी ढेर हुआ है। दोनों उत्तर प्रदेश के साथ मध्य प्रदेश पुलिस के लिए बड़ा सिरदर्द बने था। मध्य प्रदेश पुलिस इनको मुठभेड़ में मारने का दावा कर रही है, जबकि सूत्रों का मानना है कि दोनों गैंगवार में मारे गए हैं। इनके गैंग में करीब छह महीने पहले शामिल लाली कोल ने इनको मारा है।

पिछले 15 दनों में ही कोल गैंग ने चित्रकूट जिले के दो ग्रामीणों का अपहरण किया था। जिसके फिरौती लेकर ग्रामीणों छोड़ा था। कोल गैंग के आतंक से ग्रामीणों में दहशत का माहौल व्याप्त था। लोग घरों से निकलने में कांपने लगते थे।

बबुली पर साढ़े छह लाख और उसके साथी लवलेश पर 1.80 लाख रुपए का इनाम था। पुलिस टीम भी डकैतों को पकड़ने के लिए एड़ी चोटी जोर का जोर लगाए हुई थी और बीहड़ में डेरा डाले हुए थी। हर बार बबुली कोल व लवलेश टीम के चंगुल से बच निकलते थे।

बबुली पर साढ़े छह लाख और उसके साथी लवलेश पर 1.80 लाख रुपए का इनाम था। पुलिस टीम भी डकैतों को पकड़ने के लिए एड़ी चोटी जोर का जोर लगाए हुई थी और बीहड़ में डेरा डाले हुए थी। हर बार बबुली कोल व लवलेश टीम के चंगुल से बच निकलते थे।

रविवार रात आपसी गैगवार में दोनों का अंत हो गया। जानकारी के अनुसार फिरौती की रकम के बंटवारे को लेकर कोल गैंग के डकैत आपस में भिड़ पड़े। जिले की सीमा से सटे सतना के चमरी पहाड़ के जंगल में आपसी भिड़ंत के दौरान डाकुओं के बीच कई राउंड गोलियां चलीं, जिसमें सरगना बबुली की मौत हो गई।

चित्रकूट की सीमा से सटे मध्य प्रदेश के सतना जिला अंतर्गत धारकुंडी थानाक्षेत्र में रविवार को छह लाख रुपये के इनामी बबुली कोल उसके दाएं हाथ डेढ़ लाख इनामी लवलेश कोल को गैंगवार के दौरान गोली लगने की बात सामने आने के बाद खलबली मच गई। कुछ देर में जंगल से लेकर गांवों तक यह बात आग की तरह फैल गई। पता चला कि गैंग से दो माह पहले जुड़े दस हजार इनामी लाली उर्फ लाले कोल ने धारकुंडी के हरसेड़ से अपहृत किसान अवधेश द्विवेदी से मिली रकम बंटवारे को लेकर दोनों को गोली मार दी। इसके बाद सीधे भागकर सतना के धारकुंडी थाने पहुंचा। वहां पर बबुली व लवलेश को मारे जाने की जानकारी दी। इससे पुलिस सनसनी फैल गई। उनके शव सेमरी पहाड़ के पास वीरपुर के जंगल में पड़े हैं।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »