दिल्ली में पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन कराना हुआ अनिवार्य, अन्‍यथा लीगल एक्शन

नई दिल्‍ली। जिन लोगों ने अपने घरों में कुत्ते पाल रखे हैं, उन्हें अब हर हाल में उनका रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। अगर वे कुत्तों का रजिस्ट्रेशन नहीं कराते हैं तो एमसीडी उनके खिलाफ लीगल चालान करेगी। यानी जुर्माना कोर्ट तय करेगा, जो 500 रुपये से 50 हजार रुपये तक भी हो सकता है। यह अपराध की गंभीरता पर निर्भर करेगा। तीनों एमसीडी को मिलाकर अभी तक करीब 3 हजार कुत्तों का ही रजिस्ट्रेशन हो सका है, जिसमें नॉर्थ एमसीडी में 488 कुत्तों का रजिस्ट्रेशन किया गया है।
एमसीडी अफसरों के अनुसार पिछले कुछ समय से कुत्तों के काटने के केस बढ़ गए हैं। कुत्तों के काटने को लेकर आए दिन आपस में लड़ाइयां भी हो रही हैं लेकिन एमसीडी मामले को सुलझाने और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने में असमर्थ है क्योंकि यह पता ही नहीं है कि कुत्ते को रेबीज का टीका लगाया है या नहीं। अगर कुत्ते का रजिस्ट्रेशन हो्गा, तो उसकी पूरी जानकारी एमसीडी रेकॉर्ड में होगी। दूसरी समस्या पब्लिक पार्कों में कुत्तों के घुमाने और उससे गंदगी को लेकर आने वाली शिकायतों की है। इसमें भी किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई करने में एमसीडी असमर्थ है। पालतू कुत्ते अगर खो जाते हैं, तब उन्हें ढूंढने में भी दिक्कतें आती हैं लेकिन कुत्ते का रजिस्ट्रेशन होने पर उसे ढूंढना आसान हो जाता है। ईस्ट एमसीडी के वेटनरी विभाग के अफसरों ने तो शाहदरा (साउथ) और नॉर्थ जोन में रहने वालों को कुत्तों का रजिस्ट्रेशन अगले दो महीने में हर हाल में कराने के लिए कहा है। अगर कोई कुत्तों का रजिस्ट्रेशन नहीं कराता है, तो उसके खिलाफ लीगल एक्शन लेने की चेतावनी भी दी है।
पूरे दिल्ली में सिर्फ 3,000 पालतू कुत्ते
तीनों एमसीडी में कुत्तों के रजिस्ट्रेशन का अभी तक का जो रेकॉर्ड है, उसमें करीब 3 हजार कुत्तों का ही रजिस्ट्रेशन हुआ है। नॉर्थ एमसीडी एरिया में 488 और साउथ एमसीडी एरिया में करीब 2000 कुत्तों का रजिस्ट्रेशन हुआ है। ईस्ट एमसीडी ने करीब 300 कुत्तों का रजिस्ट्रेशन किया है। जबकि ईस्ट एमसीडी वेटनरी विभाग अफसरों का कहना है कि अकेले ईस्ट एमसीडी एरिया में करीब 2,000 पालतू कुत्ते होंगे। वास्तविक संख्या जानने के लिए जल्द ही दोनों जोन में सर्वे शुरू किया जाएगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *