गठबंधन सहयोगी के चयन को लेकर पश्चिम बंगाल कांग्रेस दो-फाड़

कोलकाता। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के पश्चिम बंगाल आने से पहले राज्य कांग्रेस के नेता दो भागों में बंट गए हैं। दरअसल, पार्टी का एक धड़ा तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के साथ गठबंधन को इच्छुक है तो दूसरा भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) के साथ जाने को इच्छुक है।
बता दें कि जहां एक ओर राहुल गांधी शुक्रवार को पश्चिम बंगाल का दौरा करने वाले हैं वहीं दूसरी ओर वर्ष 2019 के होने वाले लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के खिलाफ उनकी लड़ाई में गठबंधन सहयोगी के चयन को लेकर प्रदेश इकाई में मतभेद जारी है।
‘6 जुलाई को बुलाई है बैठक’
प्रदेश कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर बताया कि संगठनात्मक मुद्दों पर चर्चा के लिए आधिकारिक रूप से छह जुलाई को बैठक बुलाई गई है। हालांकि, इस दौरान तृणमूल कांग्रेस द्वारा कांग्रेस विधायकों को अपने पक्ष में करना और टीएमसी या सीपीएम के साथ गठबंधन का मुद्दा भी उठने की संभावना है।
टीएमसी-सीपीएम की दोस्ती पर ठनी ‘जंग’
पश्चिम बंगाल कांग्रेस कमिटी (डब्ल्यूबीपीसीसी) की ओर से प्रदेश महासचिव ओम प्रकाश मिश्रा द्वारा तैयार और केंद्रीय नेतृत्व को भेजी गई रिपोर्ट में संसदीय चुनाव के लिये सीपीएम से हाथ मिलाने की सिफारिश की गई है। इन सबके इतर पार्टी सांसदों एवं विधायकों के एक धड़े का मानना है कि वर्ष 2019 में अधिक से अधिक सीटें जीतने के लिए तृणमूल के साथ हाथ मिलाना बेहतर होगा।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »