NIA अभियान का जिक्र कर जेटली ने कांग्रेस के आईटी ऐक्ट विरोध पर बोला तीखा हमला

नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी NIA के आतंकविरोधी हालिया अभियान का सहारा लेकर कांग्रेस पर हमला बोला है। जेटली ने सवाल किया कि क्या इलेक्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन के इंटरसेप्शन के बिना NIA द्वारा टेररिस्ट मॉड्यूल के खिलाफ कार्यवाही संभव थी?
बता दें कि NIA ने दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल और यूपी एसटीएफ की मदद से आईएस के एक टेरर मॉड्यूल को ध्वस्त किया है।
जेटली ने इस काम के लिए एनआईए की तारीफ करते हुए इसका इस्तेमाल आईटी ऐक्ट के तहत गृह मंत्रालय के हालिया फैसले पर उपजे विवाद के बाद कांग्रेस पर तंज कसने के लिए किया।
बता दें कि केंद्र सरकार ने कुछ एजेंसियों को यह अधिकार दिया है कि वे इंटरसेप्शन, मॉनिटरिंग और डिक्रिप्शन के मकसद से किसी भी कंप्यूटर डेटा को खंगाल सकती हैं। कांग्रेस समेत विपक्ष ने इसे निजता पर वार कह, इस फैसले की आलोचना की है।
वित्त मंत्री जेटली ने गुरुवार को ट्वीट कर NIA के छापे के बहाने पलटवार किया। जेटली ने लिखा कि सर्वाधिक इंटरसेप्ट यूपीए शासन में हुआ था। जेटली ने कहा, ‘राष्ट्रीय सुरक्षा और संप्रभुता सर्वोपरि है। जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता केवल मजबूत लोकतांत्रिक देश में सुरक्षित रहेगी, आतंकी प्रभुत्व वाले देश में नहीं।’
बता दें कि पिछले हफ्ते गृह मंत्रालय के आदेश को लेकर विवाद हुआ था। कांग्रेस और विपक्ष के हमले के जवाब में तब बीजेपी ने कहा था कि यूपीए सरकार के दौरान औसतन हर महीने 9000 टेलिफोन कॉल्स और 500 ईमेलों की निगरानी हुई थी। अब जेटली ने आतंक के मॉड्यूल पर NIA के नए खुलासे के बहाने इंटरसेप्शन को राष्ट्रीय सुरक्षा से जोड़ते हुए विपक्ष को घेरने की कोशिश की है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »