यूपी में हर साल कम से कम 1500 पदों पर होगी भर्ती

लखनऊ। यूपी में सरकारी नौकरी के इंतजार में बैठे युवाओं को इसके लिए भरपूर मौका मिलने जा रहा है। उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने भर्ती प्रक्रिया शुरू करने से रिजल्ट निकालने तक का कैलेंडर तैयार कर लिया है। इसके मुताबिक साल में कम से कम 15000 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन निकाले जाने की तैयारी की जा रही है।
हर माह दो विज्ञापन व दो परीक्षाएं
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में सरकारी नौकरियों में पारदर्शी व्यवस्था लागू करने और समय पर भर्ती प्रक्रिया पूरी करने का निर्देश दिया है। अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के पास समूह ‘ग’ तक के पदों पर भर्ती का अधिकार है। आयोग का कोई अपना भर्ती कैलेंडर नहीं था। आयोग के अध्यक्ष अरुण सिन्हा ने पिछले दिनों सभी सदस्यों के साथ बैठक कर भर्ती के लिए कैलेंडर तैयार करने पर विचार-विमर्श किया। इसमें तय किया गया कि आयोग हर माह भर्ती के लिए न्यूनतम दो विज्ञापन निकालने के साथ दो परीक्षाएं कराएगा। इसके साथ ही हर माह दो भर्ती परीक्षा परिणाम निकालने पर भी सहमति बनी है।
सभी परीक्षाएं ऑनलाइन कराने पर विचार
अधीनस्थ सेवा चयन आयोग इसके साथ ही कनिष्ठ सहायक के ऊपर की सभी परीक्षाएं ऑनलाइन कराने पर विचार कर रहा है। आयोग का मानना है कि ऑनलाइन परीक्षाएं कराने से भर्ती प्रक्रिया जल्द पूरी होगी और युवाओं को नौकरी के लिए सालों-साल इंतजार नहीं करना पड़ेगा। ऑनलाइन परीक्षा कराने के लिए आयोग जल्द ही प्रमुख सचिव नियुक्ति एवं कार्मिक विभाग को प्रस्ताव भेजने जा रहा है। वहां से अनुमति मिलने के बाद कनिष्ठ सहायक के ऊपर के सभी पदों के लिए ऑनलाइन भर्ती परीक्षाएं शुरू करा दी जाएंगी।
भर्ती के लिए 500 से अधिक भर्ती के प्रस्ताव
उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के पास विभिन्न विभागों के करीब 500 से अधिक भर्ती के प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। इन प्रस्तावों को पदवार मिलान किया जा रहा है। एक समान पदों का एक विज्ञापन निकाला जाएगा। आयोग का मानना है कि सामान पदों के लिए एक विज्ञापन निकालने से भर्ती प्रक्रिया तैयार किए गए कैलेंडर के आधार पर कराने में आसानी होगी और युवाओं को सालों-साल नौकरी के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »