PayTM पेमेंट बैंक पर आरबीआई ने लगाई रोक, KYC में मिली खामी

नई दिल्‍ली। आरबीआई ने आज PayTM पेमेंट बैंक में KYC में मिली खामी के कारण नए ग्राहक जोड़ने पर रोक लगा दी है।
आरबीआई ने कंपनी के ग्राहक जोड़ने की प्रक्रिया का ऑडिट शुरू किया है। केंद्रीय बैंक ने पेटीएम से भी इस मामले में जवाब-तलब किया है।
पेटीएम पेमेंट बैंक ने नए यूजर्स को जोड़ना बंद कर दिया है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के निर्देशों के बाद पेटीएम ने यह कदम उठाया है।

आरबीआई ने पेटीएम को निर्देश दिया था कि वह तत्काल प्रभाव से नए कस्टमर को इनरोल करना बंद कर दे। आरबीआई ने ऑडिट के दौरान कुछ चीजों को लेकर आपत्ति जताई थी। एक खबर के मुताबिक हाल ही में पेटीएम पेमेंट्स बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पद से रेनू सत्ती ने इस्तीफा दे दिया था। आरबीआई का निर्देश है कि कोई बैंकर ही पेटीएम बैंक का हेड हो सकता है।
केवाईसी में हो रही थी गड़बड़ी

आरबीआई को अपनी जांच में पेटीएम द्वारा जोड़े गए नए ग्राहकों की केवाईसी में गड़बड़ी पकड़ी थी। ऑडिट करने के बाद आरबीआई ने पेटीएम पेमेंट बैंक को 20 जून से नए ग्राहक जोड़ने पर रोक लगा दी थी।

मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने दिया था इस्तीफा

हाल ही में पेटीएम पेमेंट्स बैंक की मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पद से रेनू सत्ती ने इस्तीफा दे दिया था। आरबीआई का निर्देश है कि कोई बैंकर ही पेटीएम बैंक का हेड हो सकता है। 19 मई 2017 को आरबीआई से मंजूरी के बाद रेणु की नियुक्ति सीईओ के पद पर की गई थी।

हालांकि नियमों के मुताबिक केवल एक बैंकर ही पेमेंट बैंकों का सीईओ बन सकता है। लेकिन यहीं पर पेटीएम के स्वामित्व वाली कंपनी से चूक हो गई। रेनू सत्ती इससे पहले मदर डेयरी और मैनपावर सर्विस के मानव संसाधन विभाग की कर्मचारी रही थीं।

2017 में शुरू हुआ था बैंक

पेटीएम को पेमेंट बैंक खोलने के लिए अगस्त 2015 में मंजूरी मिली थी। इसके बाद नवंबर 2017 में विधिवत तौर पर इसकी देश भर में शुरुआत हुई थी। जांच में सामने आया कि पेटीएम अपने पेमेंट बैंक पर चालू खाते भी खोल रहा था।

एयरटेल पर लगा था जुर्माना

आरबीआई ने इससे पहले मार्च में एयरटेल पेमेंट बैंक पर पांच करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था। यह भी केवाईसी नियमो का पालन नहीं करने पर लगाया गया था और बैंक के ईकेवाईसी पर भी रोक लगाने का आदेश दिया था।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »