आरबीआइ ने Four banks पर लगाया सात करोड़ रुपये का जुर्माना

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) ने विभिन्न नियामकीय दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने के आरोप में four banks पर कुल सात करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। सबसे ज्यादा तीन करोड़ रुपये का जुर्माना यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, जबकि दो करोड़ रुपये का जुर्माना देना बैंक पर लगाया गया है। इसके अलावा आइडीबीआइ और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) पर एक-एक करोड़ रुपये का जुर्माना आरबीआइ ने लगाया है।

देना बैंक ने बीएसई को दी जानकारी में कहा कि आरबीआइ ने पिछले वर्ष 20 फरवरी को कुछ दिशानिर्देश जारी किए थे। देना बैंक उसके पालन में विफल रहा, जिसके चलते उस पर दो करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है। वहीं, आइडीबीआइ ने कहा कि आरबीआइ ने स्विफ्ट से संबंधित परिचालन नियंत्रण को मजबूती देने और उसके समयबद्ध क्रियान्वयन के लिए दिशानिर्देश जारी किए थे। आइडीबीआइ बैंक उसके अनुपालन में विफल रहा, जिसके चलते उस पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है। यूनियन बैंक ने भी अपने बयान में इसी मोर्चे पर विफल रहने की वजह से आरबीआइ द्वारा तीन करोड़ रुपये जुर्माना लगाने की बात स्वीकारी है।

3,300 करोड़ रुपये के एनपीए बेचेगा सेंट्रल बैंक

एसबीआइ की राह पर चलते हुए सरकारी क्षेत्र के कर्जदाता सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने शनिवार को कहा कि वह फंसे कर्ज (एनपीए) के चार बड़े अकाउंट्स की बिक्री करेगा। हालांकि इनमें से तीन के अकाउंट्स नेशनल कंपनी लॉ टिब्यूनल (एनसीएलटी) के तहत रिजॉल्यूशन की प्रक्रिया से गुजर रहे हैं।

बैंक के मुताबिक बांबे रेयॉन फैशंस लिमिटेड, आलोक इंडस्ट्रीज (1,251 करोड़ रुपये), भूषण पावर एंड स्टील (1,550.07 करोड़ रुपये) और एस्सार स्टील (423 करोड़ रुपये) के अकाउंट्स को बिक्री के लिए रखा गया है। इनमें से आलोक इंडस्ट्रीज को छोड़कर बाकी सभी कंपनियां इन्सॉल्वेंसी की प्रक्रिया से गुजर रही हैं। गौरतलब है कि इससे पहले भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) ने 15,431 करोड़ रुपये मूल्य के एनपीए अकाउंट्स को बिक्री के लिए रख दिया था।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »