RBI ने पर्सनल लोन के नियमों में किया बदलाव, नोटिफिकेशन जारी

मुंबई। भारतीय रिजर्व बैंक RBI ने पर्सनल लोन के नियमों में एक बदलाव किया है। हालांकि यह बदलाव पर्सनल लोन लेने वाले सभी व्यक्तियों के लिए नहीं है। RBI ने जो बदलाव किया है, वह बैंकों के निदेशकों तक सीमित है। RBI ने इसे लेकर 23 जुलाई 2021 को एक नोटिफिकेशन जारी किया था।
​क्या कहता है नोटिफिकेशन
RBI के नोटिफिकेशन के मुताबिक अब बैंक अपने बोर्ड की मंजूरी के बिना अन्य बैंकों के निदेशकों को पांच करोड़ रुपये तक का पर्सनल लोन मंजूर कर सकते हैं। पहले यह सीमा 25 लाख रुपये थी। नोटिफिकेशन में RBI ने कहा है ‘एक समीक्षा के आधार पर यह निर्णय लिया गया है कि… अन्य बैंकों के किसी भी निदेशक को पर्सनल लोन के मामले में पच्चीस लाख रुपये की सीमा को संशोधित करके पांच करोड़ रुपये कर दिया गया है।’
5 करोड़ यो इससे अधिक के लोन के लिए जरूरी होगी मंजूरी
RBI ने कहा है कि जब तक निदेशक मंडल/प्रबंधन समिति द्वारा स्वीकृति न मिल जाए, बैंकों को अपने चेयरमैन/प्रबंध निदेशकों या अन्य निदेशकों के पति/पत्नी और नाबालिग/आश्रित बच्चों के अलावा किसी भी रिश्तेदार को 5 करोड़ रुपये और उससे अधिक का लोन व एडवांस नहीं देना चाहिए। हालांकि ऐसे बॉरोअर्स के लिए 25 लाख रुपये या 5 करोड़ रुपये (जैसा भी मामला हो) से कम की ऋण सुविधाओं के प्रस्ताव फाइनेंसिंग बैंक में उपयुक्त प्राधिकारी द्वारा स्वीकृत किए जा सकते हैं लेकिन मामले की सूचना बोर्ड को जरूरी दी जानी।
जुलाई 2015 में लगाया था प्रतिबंध
जुलाई 2015 में बैंकों के निदेशकों/निदेशकों के रिश्तेदारों को लोन पर प्रतिबंध लगाया गया था। बैंकों द्वारा अपने स्वयं के निदेशकों को उधार देने पर वैधानिक प्रतिबंध के साथ-साथ, RBI ने अनिवार्य किया था कि 25 लाख रुपये या उससे अधिक के लोन केवल निदेशक मंडल/प्रबंधन समिति के अनुमोदन से ही स्वीकृत किए जा सकते हैं। वर्तमान में, किसी कंपनी को लोन देने के लिए बैंक के बोर्ड/प्रबंधन समिति द्वारा मंजूरी की आवश्यकता होती है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *