आलोचकों को रवि शास्‍त्री का जवाब, दूर बैठकर बातें बनाना आसान

मेलबर्न। भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री ने आलोचकों को आड़े हाथों लिया है। उन्होंने कहा लाखों मील दूर से आलोचना करना आसान होता है। पर्थ टेस्ट में मेजबान ऑस्ट्रेलिया से मिली 146 रनों की करारी हार के बाद से वह और टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली पूर्व खिलाड़ियों के निशाने पर हैं। पूर्व कप्तान सुनील गावसकर ने टीम सिलेक्शन की पॉलिसी और मैनेजमेंट पर सवाल उठाया था।
बता दें कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सीरीज का तीसरा टेस्ट 26 दिसंबर से मेलबर्न में खेला जाएगा। फिलहाल दोनों टीमें 1-1 से बराबर हैं।
शास्त्री ने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन आलोचनाओं को उन्होंने सिरे से खारिज करते हुए जता दिया कि उन्हें ये टिप्पणियां पसंद नहीं आईं। शास्त्री ने टीम को निशाना बनाने वाले पूर्व क्रिकेटरों पर पलटवार करते हुए कहा, ‘जब आप लाखों मील दूर बैठे होते हों तो बातें बनाना आसान होता है। वे काफी दूर बैठकर टिप्पणी कर रहे हैं और हम दक्षिणी गोलार्ध में हैं। हमें वह करना है जो टीम के लिए सर्वश्रेष्ठ है, यह सामान्य सी बात है।’
चयन मामले में शास्त्री ने कहा कि एकमात्र दुविधा रविंद्र जडेजा को खिलाने को लेकर थी और ऐसा कुछ नहीं था जैसा कुछ विशेषज्ञों ने बना दिया।
भारत के मुख्य कोच ने कहा, ‘जडेजा के अलावा मुझे नहीं लगता कि चयन को लेकर और कोई दुविधा थी और अगर ऐसा कुछ था तो यह मेरी समस्या नहीं है।’
दूसरे टेस्ट के दौरान मैदान पर जडेजा और इशांत शर्मा की कैमरे में कैद हुई बहस पर कोच ने कहा, ‘मैं कभी हैरान नहीं होता (इस तरह की कवरेज से)। कई तरीकों से यह टीम को एकजुट होने के लिए प्रेरित कर सकती है और उम्मीद करते हैं कि ऐसा ही हो।’
उस समय कोई हैरानी नहीं हुई जब शास्त्री ने कप्तान कोहली का समर्थन किया, जिनके मैदानी बर्ताव पर ऑस्ट्रेलियाई विशेषज्ञों ने सवाल उठाए। शास्त्री ने कहा, ‘वह शानदार था। उनके बर्ताव में क्या गलत था। बेशक आप सवाल उठा सकते हो, लेकिन जहां तक हमारा सवाल है वह जेंटलमैन हैं।’
शास्त्री ने हालांकि स्वीकार किया कि शीर्ष क्रम टीम के लिए मुद्दा है, क्योंकि लोकेश राहुल और मुरली विजय दो टेस्ट की लगातार चार पारियों में विफल रहे।
उन्होंने कहा, ‘साफ सी बात है कि शीर्ष क्रम की समस्या बड़ी चिंता है। शीर्ष क्रम को जिम्मेदारी और जवाबदेही लेनी होगी। मुझे यकीन है कि उनके पास अनुभव है और वे योगदान देंगे।’
कोच ने हालांकि संकेत दिए कि टीम प्रबंधन विकल्प के रूप में मयंक अग्रवाल के नाम पर गंभीरता से विचार कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘मयंक अच्छा युवा खिलाड़ी है। उसने भारत ए के लिए ढेरों रन बनाए हैं। अगर आप उसका घरेलू रिकार्ड देखो तो वह किसी भी अन्य खिलाड़ी जितना अच्छा है। इसलिए हमें इस पर फैसला करना होगा।’
यह पूछने कि भारत ने क्या पर्थ में हार के साथ लय गंवा दी, शास्त्री ने कहा कि सीरीज 1-1 से बराबर होने के बावजूद भारत अच्छी स्थिति में है और ऐसा मौका उसे दक्षिण अफ्रीका या इंग्लैंड में नहीं मिला।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »