रणजीत बच्चन हत्‍याकांड: शूटर जितेंद्र मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार

लखनऊ। विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रणजीत बच्चन की हत्या के मुख्य आरोपी शूटर जितेंद्र को आलमबाग पुलिस ने शुक्रवार देर रात सीओ कैंट के ऑफिस के पास मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस का दावा है कि आरोपी फायरिंग करते हुए भागने की कोशिश कर रहा था, जवाबी कार्रवाई में उसके पैर में गोली लगी है। उसे लोकबंधु अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।
पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय ने बताया कि पुलिस जितेंद्र के परिवार वालों पर नजर रखे हुई थी। वह नेपाल भागने की फिराक में था। सूचना मिली कि वह किसी से चारबाग स्टेशन के पास रुपये लेने के लिए आने वाला है। आलमबाग इंस्पेक्टर आनंद शाही ने चारबाग इलाके में घेराबंदी कर रखी थी। उसके वहां से निकलने पर टीम पीछे लग गई थी। सीओ कैंट के ऑफिस के पास देवीखेड़ा मोड़ पर जितेंद्र ने पुलिस पर फायरिंग करते हुए भागने की कोशिश की। पुलिस ने भी जवाबी कार्यवाही करते हुए उस पर फायर किया। पुलिस की एक गोली उसके बाएं पैर में लगी और वह घायल हो गया। पुलिस ने उसे दबोचकर लोकबंधु अस्पताल में भर्ती करवाया है। मौके से एक बाइक और पिस्टल बरामद की गई है।
रेकी में इस्तेमाल कार बरामद
बच्चन हत्याकांड में पुलिस ने शुक्रवार को दूसरी पत्नी समेत तीनों आरोपियों को कोर्ट में पेश किया। इसके बाद सभी आरोपी जेल भेज दिए गए। इससे पहले गुरुवार रात हत्याकांड के मुख्य आरोपित दीपेंद्र की निशानदेही पर पुलिस ने रायबरेली स्थित उसके घर से रेकी में इस्तेमाल कार बरामद कर ली थी।
इंस्पेक्टर हजरतगंज धीरेंद्र प्रताप कुशवाहा के अनुसार गुरुवार दोपहर यूपी-एमपी बार्डर से दीपेंद्र को पकड़ा गया था। घटनास्थल पर ले जाकर पूछताछ के दौरान पता चला कि रेकी में इस्तेमाल कार रायबरेली स्थित घर पर छुपा रही है। इसके बाद देर रात ही पुलिस टीम ने रायबरेली पहुंच कार और वारदात के समय दीपेंद्र द्वारा पहनी गई जैकेट बरामद कर ली। इंस्पेक्टर हजरतगंज के अनुसार शुक्रवार को स्मृति, दीपेंद्र और संजीत को कोर्ट में पेश किया गया। इसके बाद तीनों को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया है।
स्मृति ने दीपेंद्र को दिए थे ₹13 लाख
रणजीत की दूसरी पत्नी स्मृति के दीपेंद्र से बेहद गहरे रिश्ते थे। अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दीपेंद्र के भाई के इलाज के लिए स्मृति ने अक्टूबर 2019 से 2 जनवरी 2020 तक 13 लाख रुपये दिए थे।
पुलिस के अनुसार छानबीन में पता चला है कि स्मृति ने दीपेंद्र को कई कीमती तोहफे भी दिए थे।
‘शादीशुदा होने की थी जानकारी’
रणजीत से प्रेम विवाह करने से पहले स्मृति की शादी परिवारीजनों ने कहीं और तय की थी। इसके बावजूद स्मृति ने घरवालों की अनदेखी करते हुए रणजीत से विवाह कर लिया। रणजीत की पत्नी कालिंदी के अनुसार स्मृति को रणजीत के शादीशुदा होने की जानकारी भी थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *