सभी अहम कदम उठाते हुए मनाई जाएगी अयोध्‍या में रामनवमी

अयोध्‍या। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए देश में इन दिनों लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे में लोगों के जेहन में सवाल यह भी है कि अयोध्या में राम नवमी कैसे मनाई जाएगी। जबकि हाल ही में भगवान रामलला को तिरपाल से हटाकर नए अस्थायी मंदिर में प्रतिस्थापित किया गया है।
अयोध्या में राम नवमी के पर्व पर प्रभु राम के विग्रह चित्र की आरती-पूजन के साथ रामचरित मानस का पाठ किया जाएगा। इस दौरान मंदिरों में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगाई गई है। इसका पालन करना अनिवार्य है।
बता दें कि हर वर्ष राम नगरी में लाखों की संख्या में श्रद्धालु जुटते थे और यहां सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता था। यही नहीं, लाखों भक्त इस दिन सरयू स्नान भी करते थे। हालांकि इस वर्ष (2020) कोरोना के बढ़ते खतरे और लोगों की जिंदगी को देखते हुए देश को पूरी तरह से लॉकडाउन किया गया है। साथ ही लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग फॉलो करने की अपील भी की गई है।
इन चीजों का लगाया जाएगा भोग
भगवान रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास से बात की तो उन्‍होंने बताया, ‘पूजा उसी विधि से होगी। तीन प्रकार की पंजीरी, पंचामृत का भोग लगाया जाता था, वह भी होगा। पेड़े का भोग लगाया जाता था, उसका भी प्रबंध रहेगा। भगवान को फलों का भोग लगता था, उसकी भी व्यवस्था रहेगी। हां, पहले जो भक्त आते थे प्रसाद लेने से वह अब नहीं आ पाएंगे। बढ़ते संक्रमण से पैदा होती स्थितियों को देखते हुए इस बार राम नवमी सभी अहम कदम उठाते हुए मनाई जाएगी ताकि लोग सुरक्षित रहें।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »