IPL के टाइटल स्पॉन्सर की दौड़ में रामदेव की कंपनी पतंंजलि भी शामिल

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग IPL के टाइटल स्पॉन्सर की दौड़ में एक और कंपनी का नाम सामने आ रहा है। चीनी मोबाइल कंपनी वीवो VIVO के इस साल के लिए टाइटल स्पॉन्सर से हटने के बाद योगगुरु बाबा रामदेव की कंपनी पंतजलि Patanjali भी इस दौड़ में शामिल हो गई है। कंपनी की ओर से इस बात की पुष्टि की गई है।
पंतजलि के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने इस बात की पुष्टि की है। तिजारावाला ने कहा, ‘हम इस साल आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सरशिप के बारे में सोच रहे हैं क्योंकि हम पतंजलि ब्रांड को एक वैश्विक मंच पर ले जाना चाहते हैं।’ उन्होंने यह भी कहा कि वह भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को इसके लिए एक प्रस्ताव भेजने की तैयारी कर रहे हैं।
बाजार के जानकार हालांकि इस बात को मानते हैं कि एक चीनी कंपनी के विकल्प के दौर पर एक राष्ट्रीय ब्रांड के तौर पर पंतजलि का दावा बहुत मजबूत है लेकिन उनका यह भी मानना है कि उसमें एक मल्टीनेशनल ब्रांड के तौर पर स्टार पावर की कमी है।
वीवो हटा, अब कौन
भारत और चीन के बीच तनाव के चलते चीनी मोबाइल फोन निर्माता कंपनी वीवो ने इस साल टाइटल स्पॉन्सरशिप से हटने का फैसला किया था। इसके बाद भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने भी इस पर मुहर लगा दी थी। वीवो टाइटल स्पॉन्सशिप के लिए हर साल बीसीसीआई को 440 करोड़ रुपये का भुगतान करता था। हालांकि बोर्ड ने वीवो के अगले साल वापसी का रास्ता खुला रखा है। वीवो और आईपीएल का अनुबंध साल 2022 तक का है। कोरोना वायरस के चलते इस समय बाजार की हालत बहुत अच्छी नहीं है इसलिए बोर्ड भी समझता है कि एक साल के लिए कोई नई कंपनी शायद वीवो जितना ही भुगतान न करे।
यह कंपनियां भी दौड़ में
इसके अलावा ऑनलाइन शॉपिंग दिग्गज कंपनी ऐमजॉन, फैंटसी स्पोर्टस कंपनी ड्रीम 11 और टीम इंडिया की जर्सी स्पॉन्सर और ऑनलाइन लर्निंग कंपनी बायजूज भी इस साल के टाइटल स्पॉन्सरशिप की दौड़ में हैं।
क्या बोले गांगुली
बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने शनिवार को लर्नफ्लिक्स ऐप की ओर से आयोजित एक वेबिनार में कहा, ‘मैं इसे वित्तीय संकट नहीं कहूंगा। यह एक छोटी सी बात है, जो अचानक हुई। केवल एक ही तरीका है कि आप इसका सामना कर सकते हैं कि पेशेवर रूप से मजबूत बने रहें। बड़ी चीजें रात भर में नहीं आती हैं और ना ही केवल रात भर चलती हैं। लंबे समय तक की गई आपकी तैयारी ही नुकसान से बचाती है, जिससे आप सफलताओं के लिए तैयार हो जाते हैं।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *