राजनाथ सिंह ने कठुआ में कहा, कश्मीर समस्‍या को हल होने से कोई नहीं रोक सकता

श्रीनगर। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कठुआ में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ‘जो लोग कश्मीर में एक आंदोलन चला रहे हैं, अगर वे कोई समाधान चाहते हैं तो मैं उनसे अपील करता हूं कि वे कम से कम एक बार यह समझने के लिए बैठकर बात करें कि समस्या क्या है?, यह इसलिए मैं कह रहा हूं जिससे उन्हें एक साथ हल किया जा सके।’
कश्मीर मसले पर कड़ा रुख अपनाते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि ‘कश्मीर की समस्या हल हो जाएगी, दुनिया की कोई भी ताकत इसे रोक नहीं सकती। अगर कोई बातचीत के माध्यम से समाधान नहीं चाहता है तो हम अच्छी तरह जानते हैं कि समाधान कैसे पाया जा सकता है।’
जम्मू-कश्मीर में एक दिवसीय दौरे पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कारगिल के द्रास सेक्टर पहुंचे हैं। इस दौरान उनके साथ केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह और सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत भी पहुंचे हैं। कारगिल वॉर मेमोरियल पर रक्षामंत्री ने कारगिल युद्ध में शहीद हुए जाबाजों को श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके साथ ही कारगिल वॉर मेमोरियल पर मौजूद विजिटर्स बुक में अपनी उपस्थिति अंकित की।
आपको बता दें की शनिवार सुबह रक्षामंत्री राजनाथ सिंह श्रीनगर पहुंचे थे। इस दौरान श्रीनगर एयरपोर्ट पर सेना और प्रशासन के आला अधिकारियों ने उनका स्वागत किया, यहां से वह द्रास के लिए रवाना हुए थे। जिसके बाद वह जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में पहुंचे हैं यहां उन्होंने जिले के उज्ज में एक किलोमीटर लंबे पुल का उद्घाटन किया। इसके बाद वह सांबा जिले में बसंतर (617.4 मीटर लंबा) में सीमा सड़क संगठन द्वारा निर्मित एक पुल राष्ट्र को समर्पित किया।
जानकारी के मुताबिक रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कारगिल क्षेत्र में आतंकवादियों और पाकिस्तान के सैनिकों की घुसपैठ के खिलाफ ऑपरेशन विजय की 20वीं वर्षगांठ पर द्रास में कारगिल युद्ध स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित किया है। उनके साथ केंद्रीय राज्यमंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह और सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने भी श्रद्धांजलि अर्पित की।
इस बीच सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत इस दौरान नियंत्रण रेखा (एलओसी) तथा लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के साथ-साथ आतंकवाद निरोधक अभियानों का भी जायजा लेंगे।
राजनाथ पुलों के उद्घाटन के बाद जम्मू लौटकर शाम को दिल्ली रवाना हो जाएंगे। रक्षा मंत्री बनने के बाद सिंह पहली बार जम्मू आएंगे। इससे पहले तीन जून को वह कश्मीर और लद्दाख गए थे। इस दौरे में सियाचिन ग्लेशियर के साथ-साथ लेह में स्थित सेना के 14 कोर तथा श्रीनगर में 15वीं कोर मुख्यालय भी गए थे।
विजय मशाल 26 को पहुंचेगी द्रास
20 वीं वर्षगांठ पर प्रमुख कार्यक्रम दिल्ली के राष्ट्रीय युद्ध स्मारक से विजय मशाल का द्रास स्थित कारगिल युद्ध स्मारक तक पहुंचना है। रक्षा मंत्री ने 14 जुलाई को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर सेना के सर्वश्रेष्ठ निशानेबाज सूबेदार जीतू राय को विजय मशाल सौंपी थी। यह उत्तर भारत के 9 प्रमुख कस्बों, शहरों से गुजर कर अंत में 26 जुलाई को द्रास स्थित कारगिल में शहीदों की कर्मभूमि पर पहुंचेगी, जहां इसे सेना प्रमुख ग्रहण करेंगे। 26 जुलाई को ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद वहां पर वीर जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »