सद्भावना दिवस के रूप में मनी राजीव गांधी की जयंती

मथुरा। राजीव इंटरनेशनल स्कूल के छात्र-छात्राओं ने आज पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय Rajiv Gandhi की 75वीं जयंती को सद्भावना दिवस के रूप में मनाया। इस अवसर पर छात्र-छात्राओं ने उनके चित्रपट पर श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। सुभाष सदन द्वारा एक विशेष प्रार्थना सभा आयोजित की गई। प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल ने छात्र-छात्राओं को Rajiv Gandhi के व्यक्तित्व और कृतित्व से अवगत कराया। कार्यक्रम का संचालन प्रियांश गोस्वामी ने किया।

राजीव इंटरनेशनल के छात्र-छात्राओं ने मंगलवार को पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय राजीव गाँधी की 75वीं जयंती पर उन्हें याद करते हुए आपसी भाईचारे तथा सौहार्द्र की भावना पर जोर दिया। इस अवसर पर प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल ने कहा कि राजीव गांधी शांतिदूत ही नहीं बल्कि भारत में सूचना तकनीक और दूरसंचार क्रांति के जनक भी हैं। स्वर्गीय राजीव गांधी ने ही 18 वर्ष की उम्र के युवाओं को मताधिकार दिलाने की पहल की थी। राजीव गांधी का मानना था कि विज्ञान और तकनीक की मदद के बिना उद्योगों का विकास नहीं हो सकता। उन्होंने कम्प्यूटर तक आमजन की पहुंच को आसान बनाने के लिए कम्प्यूटर उपकरणों पर आयात शुल्क घटाने की पहल की तो पंचायती राज से जुड़ी संस्थाएं मजबूती से विकास कार्य कर सकें, इस सोच के साथ राजीव गांधी ने देश में पंचायतीराज व्यवस्था को सशक्त किया।

आर.के.  एजूकेशन हब के अध्यक्ष डा.  रामकिशोर अग्रवाल ने राजीव गांधी को याद करते हुए कहा कि वह सही मायने में आधुनिक भारत के प्रणेता हैं। स्वर्गीय गांधी ने प्रधानमंत्री रहते हुए कई ऐसी योजनाएं चलाईं जिनका लाभ आज की युवा पीढ़ी को मिल रहा है। गांवों के विकास का खाका उन्होंने ही खींचा था। राजीव गांधी ने देश को प्रगति के पथ पर लाने के लिए जो कार्य किए हैं, वह सराहनीय हैं। स्कूल के प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल ने पूर्व प्रधानमंत्री के क्रिया-कलापों पर प्रकाश डालते हुए छात्र-छात्राओं का आह्वान किया कि हमें राजीव गाँधी के विचारों का अनुसरण करते हुए उनके सपनों को साकार करने का संकल्प लेना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »