रेल मंत्री ने बताया, विमानों की तरह ट्रेनों में भी लगेंगे वैक्यूम बायो-टॉइलेट

नई दिल्‍ली। भारतीय रेल की लगभग सभी रेलगाड़ियों में बायो-टॉइलेट लगाने के बाद अब उनकी जगह एडवांस वैक्यूम बायो-टॉइलेट लगाने की तैयारी चल रही है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि कि विमानन कंपनियों के साथ बराबरी करने के लिए रेलवे अपनी सुविधाओं में सुधार कर रहा है और ट्रेनों में बायो-टॉइलेट की जगह आधुनिक टॉइलेट लगाना इसी योजना का हिस्सा है।
गोयल ने कहा, ‘हम विमानों की तरह ट्रेनों में भी प्रायोगिक तौर पर वैक्यूम बायो-टॉइलेट लगा रहे हैं। करीब 500 वैक्यूम बायो-टॉइलेट का आर्डर दिया गया है। यह प्रयोग सफल होने पर मैं रेलगाड़ियों में लगे सभी 2.5 लाख बायो-टॉइलेट को बदलकर वैक्यूम बायो-टॉइलेट लगाने के लिए पैसा खर्च करने को तैयार हूं।’
रेल मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक 31 मई तक 37,411 डिब्बों में 1,36,965 बायो-टॉइलेट लगाए गए हैं। प्रत्येक टॉइलेट पर करीब एक लाख रुपये की लागत आई थी। मार्च 2019 तक करीब 18,750 और डिब्बों में बायो-टॉइलेट लगाए जाने की योजना है। इसी के साथ भारतीय रेलवे के सभी डिब्बों में इस तरह के टॉइलेट लग जाएंगे। इस पर करीब 250 करोड़ रुपये की लागत आएगी।
गोयल ने कहा, ‘मार्च 2019 तक 100 प्रतिशत रेलगाड़ियों में बायो-टॉइलेट लग चुके होंगे जो अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है। रेल की पटरियां साफ होंगी, बदबू नहीं होगी और पटरियों के नवीकरण का भार भी कम होगा।’ उन्होंने बताया कि प्रति इकाई 2.5 लाख रुपये की लागत से तैयार होने वाले वैक्यूम टॉइलेट बदबू रहित होंगे। इसमें मौजूदा टॉइलेट के मुकाबले पानी का इस्तेमान पांच प्रतिशत कम होगा और इसके अवरुद्ध होने का अंदेशा भी बहुत कम होगा।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »