गौरी लंकेश की हत्या पर राजनीति कर रहे हैं राहुल गांधी: प्रसाद

नई दिल्ली। बेंगलुरु में पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या पर देश की सियासत गरमा गई है। बीजेपी ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर आरोप लगाया है कि वह हत्या को लेकर राजनीति कर रहे हैं। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राहुल और कांग्रेस से सवाल पूछते हुए कहा कि गौरी को सुरक्षा देने में कर्नाटक सरकार क्यों नाकाम साबित हुई, जिनके बारे में कहा जा रहा है कि उनके मुख्यधारा के नक्सलियों से संबंध थे।
प्रसाद ने इस दौरान कहा, ‘बीजेपी के कई नेताओं के बारे में हत्याकांड की आलोचना न करने को लेकर दुर्भावनापूर्ण कॉमेंट किए गए हैं जबकि हमें जैसे ही सच्चाई पता चली हमने इस घटना की कड़ी निंदा की।’ साथ ही रविशंकर प्रसाद ने इस घटना को लेकर हंगामा मचाने वाले ‘उदारवादी और बुद्धिजीवियों’ से पूछा कि उन्होंने उस वक्त क्यों नहीं विरोध जताया, जब केरल और कर्नाटक में आरएसएस के कार्यकर्ताओं की हत्या हो रही थी।
रविशंकर प्रसाद ने गौरी लंकेश के भाई इंद्रजीत के उस कथित बयान का जिक्र किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि उनकी बहन नक्सलियों के आत्मसमर्पण को लेकर सक्रिय तौर पर काम कर रही थीं।
केंद्रीय मंत्री ने इस पर सवाल उठाते हुए कहा, ‘क्या गौरी लंकेश ऐसा राज्य सरकार की सहमति और मंजूरी मिलने के बाद कर रहीं थीं? अगर ऐसा है तो उनको कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने सुरक्षा क्यों नहीं मुहैया कराई? ‘
राहुल पर पलटवार करते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘इससे पहले कि इंवेस्टिगेशन का आई शुरू होता, महान नेता राहुल गांधी ने बिना कोई होमवर्क किए सार्वजनिक रूप से आरोप लगाया कि गौरी की हत्या के पीछे आरएसएस और दक्षिणपंथी संगठनों का हाथ है। उन्होंने दोषी भी साबित कर दिया। इस दुर्भावनापूर्ण बयान के बाद क्या हम कर्नाटक की कांग्रेस सरकार से निष्पक्ष जांच की अपेक्षा कर सकते हैं?’
यही नहीं, रविशंकर प्रसाद ने गौरी हत्याकांड को लेकर नरमपंथी और बुद्धिजीवियों पर पाखंड करने और दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया।
केंद्रीय मंत्री ने सवालिया लहजे में कहा, ‘जो हमें उदारवादी संस्कारों के बारे में ज्ञान दे रहे हैं, जो आज एक पत्रकार की हत्या पर अपनी वाकपटुता दिखा रहे हैं, उन्होंने आरएसएस और बीजेपी कार्यकर्ताओं की हत्या के वक्त विख्यात चुप्पी क्यों साध रखी थी?
क्या केरल में आरएसएस के स्वयंसेवक के पास एक विचारधारा रखने का अधिकार नहीं है?’
-एजेंसी