Rafale Deal में एक और नया आरोप ढूंढ लाए राहुल गांधी

नई दिल्‍ली। Rafale Deal पर एक लीक ईमेल का हवाला देते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज पीएम मोदी पर गोपनीयता कानून उल्लंघन का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि एयरबस कंपनी के एक कर्मचारी ने ईमेल लिखा है कि फ्रांस के डिफेंस मिनिस्टर के ऑफिस में अनिल अंबानी ने 10 दिन पहले ही Rafale Deal होने का ऐलान कर दिया था।
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि पीएम मोदी पर अब भ्रष्टाचार का ही नहीं, बल्कि ऑफिशल सीक्रेट ऐक्ट के उल्लंघन का भी आरोप है।
कांग्रेस अध्यक्ष ने Rafale Deal में पीएम मोदी पर पद और गोपनीयता की शपथ को भंग करने का आरोप लगाया।
उन्होंने कहा, ‘अनिल अंबानी फ्रांस के रक्षा मंत्रालय में गए थे और उस मीटिंग में साफ बोला कि मोदी फ्रांस आएंगे तो एमओयू साइन होगा। इस एमओयू में में अनिल अंबानी का नाम होगा। फॉरेन सेक्रेटरी को नहीं मालूम, रक्षा मंत्री को नहीं मालूम, एचएएल को नहीं मालूम, फॉरेन सेक्रेटरी कह रहे हैं कि Deal पर चर्चा हो रही है, लेकिन Deal होने के 10 दिन पहले अनिल अंबानी को मालूम है।’
‘पीएम ने अंबानी के बिचौलिए का काम किया’
Rafale Deal में अब तक कांग्रेस भ्रष्टाचार के आरोप लगा रही थी, लेकिन आज कांग्रेस अध्यक्ष ने पीएम मोदी को गोपनीयता कानून तोड़ने का आरोपी बताया।
उन्होंने कहा, ‘नरेंद्र मोदी राफेल डील में मिडिल मैन का काम कर रहे हैं। अनिल अंबानी को किसने बताया?
अगर प्रधानमंत्री ने यह किया तो यह ऑफिशल सीक्रेट ऐक्ट का उल्लंघन है। इसके तहत उन पर तत्काल कार्यवाही होनी चाहिए, यह भ्रष्टाचार का मामला भर नहीं है। पहले यह भ्रष्टाचार का मामला था यह अब ऑफिशल सीक्रेट ऐक्ट का मामला है। उन्होंने प्रधानमंत्री के पद की शपथ लेते वक्त पद और गोपनीयता की शपथ ली थी, अंडर ओथ में हैं और देश के सीक्रेट अनिल अंबानी को दे रहे हैं।’
कांग्रेस अध्यक्ष बोले, प्रधानमंत्री को जेल जाना चाहिए
राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर कार्यवाही की मांग करते हुए यह भी कहा कि कैग रिपोर्ट बेमानी है। उन्होंने कहा, ‘डील से जुड़े सीक्रेट साझा करने के लिए प्रधानमंत्री को जेल जाना चाहिए। सीएजी रिपोर्ट चौकीदार ऑडिटर जनरल रिपोर्ट है। यह मोदी की रिपोर्ट है जिसे चौकीदार ने बनाई, चौकीदार के लिए बनाई। सुप्रीम कोर्ट में सरकार ने कैग रिपोर्ट का हवाला दिया था, लेकिन कैग रिपोर्ट तब थी ही नहीं। सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में भी झूठ बोला।’
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि वह कैग संस्था में अविश्वास नहीं जता रहे, इस रिपोर्ट को बेमानी बता रहे हैं। राहुल ने कहा कि विपक्ष के जितने नेता हैं उन पर जितनी मर्जी जांच होनी चाहिए, लेकिन राफेल मामले की भी जांच हो। उन्होंने कहा, ‘पीएम मोदी जेपीसी बिठा दो क्यों घबरा रहे हो क्योंकि आप शामिल हैं। हमारे ऊपर जो जांच करानी है कर लो। हम किसी जांच से नहीं घबराते, मोदीजी जांच से डर रहे हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »