राहुल गांधी ने केरल की Wayanad लोकसभा सीट से पर्चा दाखिल किया

वायनाड। कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने आज केरल की Wayanad लोकसभा सीट से पर्चा दाखिल कर दिया। नामांकन करने के बाद राहुल गांधी रोड अपनी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा और अन्‍य नेताओं के साथ रोड शो करने निकल पडे़। करीब दो किलोमीटर लंबे रोड शो के जरिए राहुल गांधी ने अल्‍पसंख्‍यक बहुल इस सीट पर अपनी सियासी ताकत का अहसास करा रहे हैं।
इस बीच कांग्रेस की सहयोगी इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) के झंडे ने पार्टी के लिए नई मुश्किल खड़ी कर दी है। आईयूएमएल राज्य में यूडीएफ (यूनाइडेट डेमोक्रैटिक फ्रंट) की अगुआई कर रही कांग्रेस के बड़े सहयोगियों में से एक है। पार्टी के हरे झंडे को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चा और कई अफवाहें भी चल रही हैं।
गुरुवार को जब राहुल वायनाड पहुंचे तो कुछ मीडिया रिपोर्ट में कहा गया कि कांग्रेस उनके कार्यक्रम के दौरान आईयूएमएल के हरे झंडों से बचना चाहती है। इस चर्चा ने इतना जोर पकड़ा कि पार्टी के महासचिव केपीए मजीद को मीडिया में आकर सफाई देनी पड़ी।
उन्होंने मीडिया में आ रही खबरों को खारिज किया। मजीद ने साफ किया कि राहुल के Wayanad दौरे में ऐसा कोई फैसला नहीं हुआ है कि आईयूएमएल के झंडे या सिंबल से बचा जाए। उन्होंने कहा, ‘पार्टी की स्थापना के पहले दिन से ही आईयूएमएल गर्व के साथ हरे झंडे का इस्तेमाल कर रही है।’
Wayanad से राहुल की उम्मीदवारी के ऐलान के बाद सोशल मीडिया पर कुछ यूजर्स ने वीडियो पोस्ट किया। इस वीडियो में कुछ लोग राहुल का पोस्टर लिए हुए आईयूएमएल का हरा झंडा लहरा रहे थे। पोस्ट में दावा किया गया कि Wayanad में राहुल के प्रचार अभियान के दौरान पाकिस्तानी झंडों का इस्तेमाल किया जा रहा है। आईयूएमएल के Wayanad जिला उपाध्यक्ष टी मुहम्मद ने कहा, ‘पार्टी की छवि को गिराने के लिए ऐसी कोशिशें की जा रही हैं। हमने हमेशा धर्मनिरेपक्षता और लोकतांत्रिक आदर्शों को ऊपर रखा है।’ मुहम्मद इस विधानसभा क्षेत्र में यूडीएफ की कैंपेन कमेटी के अध्यक्ष भी हैं।
राहुल गांधी के रोड शो को देखते हुए बड़ी संख्‍या में कांग्रेस कायकर्ता उनके स्‍वागत में जमा हुए हैं। बताया जा रहा है कि पहले राहुल गांधी के रोड शो अनुमति नहीं मिली थी लेकिन बाद में सरकार ने उन्‍हें अनुमति दे दी। इससे पहले Wayanad से पर्चा दाखिल करने के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा था कि दक्षिण भारत में एक भावना है कि मौजूदा एनडीए सरकार में उन पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। दक्षिण भारत को लगता है कि नरेंद्र मोदी उनसे शत्रुता का भाव रखते हैं। उनको लगता है कि इस देश की, निर्णय लेने की प्रक्रिया में उनको शामिल नहीं किया जा रहा है।
उन्होंने कहा, ‘मैं दक्षिण भारत को संदेश देना चाहता था कि हम आपके साथ खड़े हैं इसलिए मैंने केरल से चुनाव लड़ने का फैसला किया।’
गौरतलब है कि केरल की सभी 20 सीटों के लिए आगामी 23 अप्रैल को मतदान होना है। केरल में बीजेपी की सहयोगी पार्टी भारत धर्म जनसेना (बीडीजेएस) के अध्यक्ष तुषार वेल्लापल्ली राहुल के खिलाफ Wayanad सीट से लड़ेंगे। राज्य में बड़े हिंदू समुदाय का प्रतिनिधत्व करने वाले बीडीजेएस के दम पर एनडीए गठबंधन को यहां बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। पार्टी इस मान्यता के साथ खड़ी हुई कि केरल में वर्षों से एलडीएफ और यूडीएफ सरकारों में अल्पसंख्यकों को प्रतिनिधित्व मिला है इसलिए राज्य में एक हिंदुओं की बात करने वाली पार्टी भी जरूरी है।
सीपीएम के पीपी सुनीर को मैदान में उतारा
उधर, सत्‍तारूढ़ वामपंथी दलों के गठबंधन वाम लोकतांत्रिक मोर्चा ने वायनाड से सीपीएम के पीपी सुनीर को मैदान में उतारा है। सीपीएम के Wayanad जिले के नेता विजयन चेरूकारा ने कहा कि राहुल गांधी अदृश्य भगवान की तरह हैं। उनके लिए अपने पारिवारिक गढ़ अमेठी (उत्तर प्रदेश) से जीतना आसान होगा लेकिन वायनाड की धरती कुछ अलग है। हम उन्हें सिखाएंगे कि जमीन पर चुनाव कैसे लड़े जाते हैं। वायनाड लोकसभा सीट के तहत सात विधानसभा क्षेत्र आते हैं।
इस संसदीय क्षेत्र में मनंतावडी, तिरुवंबडी, वानदूर, सुल्तानबथेरी, एरनाड, कलपत्ता और निलंबूर विधानसभा सीटें आती हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को वायनाड लोकसभा सीट पर महज 20,870 वोटों के अंतर से जीत हासिल हुई थी। कांग्रेस कैंडिडेट एमआई शानवास को एलडीएफ (सीपीएम) के सत्यन मोकेरी से कुल पड़े वोटों में से 1.81 प्रतिशत ज्यादा मत हासिल हुए थे। शानवास को 3,77,035 और मोकेरी को 3,56,165 वोट मिले थे। वहीं, बीजेपी के पीआर रस्मिलनाथ को 80,752 मत हासिल हुए थे। यूडीएफ यानी कांग्रेस को यहां 41.2 प्रतिशत और एलडीएफ को 39.39 प्रतिशत वोट मिले थे।
वायनाड में करीब 56 फीसदी मुस्लिम वोटर
वायनाड संसदीय क्षेत्र में मुस्लिम वोटर्स की तादाद सबसे ज्यादा है। यूडीएफ की दूसरी सबसे बड़ी साझेदार इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग का इस क्षेत्र में अच्छा प्रभाव है। वायनाड जिले में हिंदू आबादी 49.7 प्रतिशत है जबकि क्रिस्चन और मुस्लिम समुदाय क्रमशः 21.5 और 28.8 प्रतिशत हैं। हालांकि, मलप्पुरम में 70.4 प्रतिशत मुस्लिम, 27.5 प्रतिशत हिंदू और 2 प्रतिशत क्रिस्चन हैं। वायनाड लोकसभा क्षेत्र में कुल सवा 13 लाख वोटरों में 56 प्रतिशत यानी आधे से भी ज्यादा मुस्लिम वोटर हैं। कांग्रेस को उम्मीद है कि यहां से राहुल गांधी के उतरने की वजह से उसे अल्पसंख्यकों के वोट एकतरफा मिलेंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »