शरद Pawar के खिलाफ FIR पर भड़के NCP कार्यकर्ता, पुलिस ने खदेड़े

मुंबई। शरद Pawar के खिलाफ केस दर्ज होने के बाद NCP कार्यकर्ता भड़क उठे और उन्‍होंने मुंबई में ईडी कार्यालय के बाहर नारेबाजी की। मुंबई पुलिस ने बल प्रयोग करके उन्‍हें हटाया।
नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद Pawar के जेल जाने के बयान के बाद पार्टी के कार्यकर्ता भड़क उठे हैं और उन्‍होंने प्रवर्तन निदेशालय के कार्यालय के बाहर जोरदार प्रदर्शन किया है। एनसीपी कार्यकर्ताओं को हटाने के लिए मुंबई पुलिस को काफी मशक्‍कत करनी पड़ी है। इससे पहले शरद Pawar ने कहा था कि उन्हें जेल भेजे जाने की तैयारी की जा रही है।
महाराष्ट्र के कोऑपरेटिव बैंक घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शरद Pawar और उनके भतीजे अजीत Pawar केस दर्ज किया है। इस पर शरद पवार ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जेल जाने में उन्हें कोई समस्या नहीं है। कोऑपरेटिव बैंक घोटाले में दर्ज हुए मामले का जिक्र करते हुए एनसीपी चीफ पवार ने कहा, ‘मुझे कोई समस्या नहीं होगी अगर मुझे जेल जाना पड़ता है। इससे मुझे खुशी होगी क्योंकि मेरा पहले कभी जेल जाने का अनुभव नहीं रहा है। अगर कोई मुझे जेल भिजवाने की तैयारी कर रहा है तो मैं इसका स्वागत करता हूं।’
एनसीपी के कार्यकर्ता भड़के
शरद पवार के इसी बयान के बाद एनसीपी के कार्यकर्ता भड़क उठे और उन्‍होंने ईडी कार्यालय के बाहर प्रदर्शन और नारेबाजी की। एनसीपी कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के खिलाफ भी नारे लगाए। मुंबई पुलिस ने बलपूर्वक इन कार्यकर्ताओं को ईडी ऑफिस के गेट से हटाया और उन्‍हें पुलिस वैन में भरकर ले गई। करीब 25 हजार करोड़ के कोऑपरेटिव बैंक घोटाले में कई बैंक अधिकारी भी कठघरे में हैं।
ईडी ने मंगलवार को शरद पवार समेत 70 अन्य लोगों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग और अन्य मामलों में केस दर्ज किया है। इस घोटाले में मुंबई पुलिस की ओर से पिछले महीने एक एफआईआर दर्ज की गई थी। बॉम्बे हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव बैंक घोटाले में कोर्ट में पेश किए गए तथ्यों के आधार पर शरद पवार और अन्य आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया था। साल 2007 से 2011 के बीच हुए इस घोटाले में महाराष्ट्र के विभिन्न जिलों के बैंक अधिकारियों को भी आरोपी बनाया गया है।
संचालक मंडल के गलत फैसले से फर्जीवाड़ा!
इस मामले में आरोप है कि राज्य सहकारी बैंक में सैकड़ों करोड़ रुपये का घोटाला हुआ। यह भी आरोप है कि यह सारा फर्जीवाड़ा संचालक मंडल द्वारा लिए गए गलत फैसलों की वजह से संभव हो पाया है। राज्य सहकारी बैंक से शक्कर कारखानों और कपड़ा मिलों को बेहिसाब कर्ज बांटे गए। इसके अलावा कर्ज वसूली के लिए जिन कर्जदारों की संपत्ति बेची गई, उसमें भी जान- बूझकर बैंक को नुकसान पहुंचाया गया।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *