रघुराम राजन ने बढ़ते NPA के लिए यूपीए सरकार को ही जिम्मेदार ठहराया

नई दिल्‍ली। भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने बढ़ते गैर निष्पादित परिसंपत्तियों NPA को लेकर संसद की एक समिति को दिए अपने जवाब में गत यूपीए सरकार को ही जिम्मेदार ठहरा दिया है।
मिली जानकारी के अनुसार राजन ने बताया कि घोटालों और जांच की वजह से सरकार के निर्णय देरी से लेने के कारण NPA बढ़ते चले गए।
उल्लेख है कि वरिष्ठ भाजपा सांसद मुरली मनोहर जोशी की अध्यक्षता वाली संसद की प्राक्कलन समिति ने राजन को पत्र लिखकर समिति के सामने उपस्थित होकर NPA के विषय पर जानकारी देने को कहा था। इसके लिए अपने जवाब में राजन ने कहा कि बैंकों की ओर से बड़े कर्जों पर यथोचित कार्यवाही नहीं की गई और 2006 के बाद विकास की गति बिलकुल धीमी हो गई । बैंकों की वृद्धि का जो आकलन था, वो अवास्तविक हो गया।
उल्लेख है कि मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) अरविंद सुब्रमण्यम ने NPA संकट को पहचानने और इसका हल निकालने का प्रयास करने के लिए समिति के सामने राजन की बहुत प्रशंसा की थी। सुब्रमण्यम ने समिति को बताया था कि NPA की समस्या को पहचानने का श्रेय पूर्व गवर्नर रघुराम राजन को जाता है ।
उनसे बेहतर ये कोई नहीं जान पाया था कि आखिर देश में NPA की समस्या कैसे इतनी गंभीर हो गई। इसके अलावा सुब्रमण्यम ने यह भी दावा किया था कि अपने कार्यकाल के दौरान राजन ने समस्या के समाधान के लिए काफी प्रयास किए थे। इसके बाद जोशी ने राजन को पत्र लिखकर समिति के सामने आकर देश में बढ़ते NPA के विषय पर जानकारी देने को कहा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »