राहुल गांधी की Citizenship पर सवाल, गृह मंत्रालय ने नोटिस जारी कर जवाब मांगा

केंद्रीय गृह मंत्रालय से राहुल गांधी को भेजे गए नोटिस की प्रति
केंद्रीय गृह मंत्रालय से राहुल गांधी को भेजे गए नोटिस की प्रति

नई दिल्‍ली। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राहुल गांधी की Citizenship पर उठ रहे सवालों के बीच नोटिस जारी कर उनसे जवाब मांगा है। गृह मंत्रालय ने बीजेपी नेता सुब्रमण्यन स्वामी की चिट्ठी के बाद राहुल को नोटिस जारी किया है।
बता दें कि स्वामी ने गृह मंत्रालय को राहुल के Citizenship के खिलाफ दो बार पत्र लिख चुके हैं। 21 सितंबर 2017 को भी स्वामी ने इस बारे में एक शिकायत की थी। स्वामी ने 29 अप्रैल 2019 को भी पत्र लिखा।
स्वामी ने अपने पत्र में राहुल के ब्रिटिश Citizenship होने का दावा किया है। कांग्रेस ने स्वामी के आरोपों का खंडन किया है। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘राहुल गांधी जन्म से भारतीय हैं और पार्टी बीजेपी सांसद के दावे के खारिज करती है।’
अमेठी सीट पर राहुल की Citizenship पर उठ चुका है सवाल
कुछ दिन पहले लोकसभा चुनाव में अमेठी से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं ध्रुव लाल ने रिटर्निंग ऑफिसर से शिकायत की थी कि राहुल ने ब्रिटिश Citizenship ने ली थी और इसलिए उनका नामांकन रद्द किया जाए। हालांकि बाद में निर्वाचन अधिकारी ने राहुल के नामांकन की जांच कर इसे वैध करार दिया था। राहुल लोकसभा चुनाव में पहली बार दो सीटों यूपी की अमेठी और केरल की वायनाड सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।
स्वामी ने पत्र क्या दावा किया है
स्वामी ने अपनी शिकायत में दावा किया है कि 2003 में ब्रिटेन में Backops लिमिटेड नामक कंपनी का रजिस्ट्रेशन हुआ था। इस कंपनी का पता 51 साउथगेट स्ट्रीट, विंचेस्टर, हैंपशायर SO23 9EH है और राहुल इसके एक निदेशक और सचिव थे।
स्वामी ने अपनी शिकायत में यह भी दावा किया है कि कंपनी के 10-10-2005 और 31-10-2006 को फाइल किए गए वार्षिक रिटर्न में राहुल की जन्मतिथि 19-06-1970 अंकित हैं और नागरिकता ब्रिटिश बताई गई है। 17-02-2009 को कंपनी को बंद (डिसलूशन अप्लीकेशन) करने के समय भी राहुल की नागरिकता ब्रिटिश बताई गई है। गृह मंत्रालय ने स्वामी की इस शिकायत के आधार पर राहुल गांधी को अपना पक्ष रखने और 15 दिन के भीतर इसका जवाब मांगा है। केंद्र सरकार में निदेशक (नागरिकता) बी. सी. जोशी ने राहुल को यह नोटिस जारी किया है।
उल्‍लेखनीय है कि अमेठी के प्रत्याशी ध्रुव लाल के वकील रवि प्रकाश ने रिटर्निंग ऑफिसर से शिकायत की थी कि राहुल गांधी ने ब्रिटिश नागरिकता ली थी और इसलिए उनका नामांकन रद्द किया जाए। उन्होंने ब्रिटेन में रजिस्टर्ड एक कंपनी के कागजातों के आधार पर यह दावा किया था। साथ ही राहुल गांधी की शैक्षणिक योग्यता में त्रुटि का आरोप भी लगाया गया है। बीजेपी ने इस मुद्दे को लपकते हुए कांग्रेस और राहुल गांधी से जवाब मांगा था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *