आतंकियों के वायरल कई Audio बता रहे सुरक्षाबलों की कामयाबी

जम्मू। जम्मू कश्मीर में आतंकियों के बीच कुर्सी का झगड़ा चल रहा है, इसील‍िए एक के बाद एक कई Audio वायरल हो रहे हैं। और यही Audio ये बताने को काफी हैं आतंक‍ियों के ख‍िलाफ सुरक्षाबलों का अभियान कामयाबी की राह पर है। इन दिनों आतंकियों का एक और ऑडियो चर्चा में बना हुआ है। खुद को हिजबुल से जुड़ा बताने वाला आतंकी कहता है कि संगठन में कोई है, जो एक-एक करके सबको मरवा रहा है। आतंकी आगे कहता है कि जुनैद हिज्ब और शीराज हिज्ब से अलग हुआ था। रियाज नायकू के मारे जाने के बाद चीफ ऑपरेशनल कमांडर की कुर्सी पर जुनैद को होना चाहिए था लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

पहले नवीद बाबू पकड़ा गया, फिर रियाज को मार गिराया गया और अब जुनैद सेहरई मारा गया। आतंकी कहता है कि पिछले कुछ समय से आतंकी संगठन एक दूसरे के खिलाफ कोई न कोई ऑडियो टेप जारी जारी कर रहे हैं। क्या रियाज के बाद झगड़ा कुर्सी का है।

इससे पहले बेगपोरा एनकाउंटर में रियाज नायकू के मारे जाने के बाद भी एक ऑडियो वायरल हुआ था। सुरक्षाबलों के बढ़ते शिकंजे से बौखलाए आतंकी संगठन अब एक दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। खुद को असली और दूसरे को फर्जी बता रहे हैं। इसका उदाहरण सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे ऑडियो से मिल रहा है।

पिछले कुछ समय से सोशल मीडिया पर वायरल ऑडियो चर्चा का विषय बने हुए हैं। इसमें आतंकी संगठन एक दूसरे को एजेंट कहते हुए सुने जा सकते हैं। टीआरएफ के नाम से बने नए आतंकी संगठन का दहशतगर्द कहता है कि हिजबुल आतंकी निर्दोष लोगों की हत्या करते हैं।

वहीं इसके जवाब में हिजबुल कहता है कि टीआरएफ भारत का एजेंट है। इसके बाद एक और ऑडियो आता है, जिसमें कहा गया कि बेगपोरा एनकाउंटर में टीआरएफ का हाथ है। आतंकी संगठन एक दूसरे को फर्जी बता रहे हैं।

वहीं श्रीनगर में नवाकदल मुठभेड़ में दो आतंकियों जुनैद सहराई और तारिक अहमद शेख के मारे जाने के बाद भी एक ऑडियो वायरल हुआ था। जिसमें आतंकी कह रहा था वो फंस चुके हैं। जल्दी पत्थरबाज भेजो। मारे गए आतंकी जुनैद के साथ तारिक था जिसने किसी शाहिद नाम के शख्स को फोन कर ये बातें की थीं।

‘अस्सलाम अलैकुम….शाहिद साहब, तारिक हूं मैं… हम फंस गए हैं नवाकदल में, पुरानी लोकेशन में….वहां से नफर (बंदों) को भेजो जो पथराव करेंगे। पीछे वाली सड़क से वहीं से बंदों को भेजो वह पथराव करेंगे और हमें बाहर निकालेंगे। मेरे साथ जुनैद साहब हैं। जुनैद साहब सेहराई साहब हैं, अगर और कोई होता तो अलग बात थी, बाकी सब सही था…. जल्दी करो जल्दी यह आखरी घड़ी है।’
– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »