आपत्तिजनक तरीक़े से महिला यात्रियों की जांच करने पर कतर ने मांगी माफ़ी

क़तर ने अपने अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट पर महिला यात्रियों के साथ आपत्तिजनक तरीक़े से जांच किए जाने के मामले में माफ़ी माँगी है.
मामला 2 अक्टूबर का है. दोहा स्थित एक हवाई अड्डे में एक नवजात बच्ची कचरे के डब्बे में पड़ी मिली थी. इसके बाद एयरपोर्ट पर मौजूद कई महिलाओं की ये देखने के लिए जांच की गई कि कहीं उन्होंने तो बच्ची को जन्म नहीं दिया है.
आरोप है कि महिलाओं के कपड़े उतरवाए गए और 10 उड़ानों की महिला यात्रियों को इस जाँच से गुज़रना पड़ा.
ऑस्ट्रेलिया की सरकार का कहना है कि इन विदेशी महिलाओं में कम से कम 18 ऑस्ट्रेलिया की नागरिक थीं.
ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने इससे पहले रिपोर्ट किया था कि दोहा से सिडनी जा रही एक फ्लाइट में सवार सभी महिलाओं को फ्लाइट से उतरने का आदेश दिया गया था.
उन्हें एक एम्बुलेंस में ले जाया गया और जांच से पहले अंडरवियर उतारने के लिए कहा गया.
चश्मदीदों के मुताबिक़ बाद में कई महिलाएं व्यथित दिखीं और ऑस्ट्रेलिया सरकार को उनकी सेहत और मनोबल नहीं टूटने देने के लिए मदद करनी पड़ी.
क़तर सरकार ने माँगी माफ़ी
क़तर सरकार की वेबसाइट पर एक बयान जारी कर इन महिला यात्रियों को हुई परेशानी के लिए खेद जताया गया है.
सरकार ने बताया कि बच्ची एक प्लास्टिक बैग में मिली थी और वो कचरे के नीचे दबी हुई थी इसलिए “उसके माता-पिता को तुरंत ढूंढना शुरू किया गया. नवजात जहां मिली थी, उसके आस-पास की उड़ानों में भी तलाशी ली गई.”
बयान में कहा गया, “तुरंत तलाशी लेने का फ़ैसला इसलिए किया गया ताकि इस भयानक अपराध के मुजरिमों को भागने से रोका जा सके. क़तर इस कार्यवाही से किसी यात्री की निजी स्वतंत्रता के उल्लंघन पर खेद व्यक्त करता है.”
क़तर सरकार ने बताया कि बच्ची अब स्वस्थ और सुरक्षित है.
सरकार ने घटना की “व्यापक और पारदर्शी जांच” के निर्देश दिए हैं और कहा है कि वो जांच के नतीजे दूसरे देशों के साथ साझा करेंगे.
हालांकि अभी ये पता नहीं चल पाया है कि जांच से गुज़रने वालों में ऑस्ट्रेलिया के अलावा और कौन-से देश की महिलाएं थीं.
ऑस्ट्रेलिया सरकार ने चिंता व्यक्त की
आपत्तिजनक जांच का मामला इस हफ़्ते तब सामने आया था जब यात्रियों ने ऑस्ट्रेलिया की सरकार से संपर्क किया.
ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री मॉरिस पायन ने बुधवार को बताया कि कुल 18 ऑस्ट्रेलियाई महिलाओं की जांच की गई थी.
सोमवार को ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्रालय ने कहा कि “ये सामान्य परिस्थितियों से एक अलग घटना थी जिसमें महिलाएं स्वतंत्र रूप से और पूरी जानकारी हासिल करने के बाद स्वीकृति देती हैं.”
लेकिन विदेश मंत्रालय ने इसे क़तरी अधिकारियों से ज़्यादा जानकारी मिलने तक यौन उत्पीड़न कहने से इंकार कर दिया. दरअसल, ऑस्ट्रेलिया में विपक्षी नेता इसे यौन उत्पीड़न कह रहे हैं.
ऑस्ट्रेलिया ने मामले को अपनी संघीय पुलिस के हाथों में दे दिया है.
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *