गुप्त रोगों के नाम पर बनाए जा रहे मानसिक patients

केडी हास्पीटल पाॅलीक्लीनिक की ओपीडी में मौजूद डा. गौरव शर्मा बोले-गुप्त रोगों के नाम पर patients में फैलीं हैं काफी भ्रांतियां
आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल बोले-अंधविश्वास और भ्रांतियां होतीं अभिशाप
मथुरा। क्या आप किसी कल्पित गुप्त रोग से परेशान हैं। क्या आप किसी नीम हकीम यानि की अप्रशिक्षित चिकित्सक के द्वारा ठगे जा रहे हैं। क्या आपको गुप्त बीमारियों के नाम पर मानसिक रोगी बना दिया गया है। इससे आपको निरोग होते हुए भी लगता है कि आप किसी गंभीर गुप्त बीमारी से पीडित हैं, तो ये समाचार आपके लिए ही है। आप घबराएं नहीं सिर्फ केडी हास्पीटल पाॅलीक्लीनिक तक आ जाएं। बाकी इलाज तो बैंगलोर और दिल्ली से प्रशिक्षित अनुभवी एमडी मनो चिकित्सक कर आपको राहत देने का कार्य करेंगे।
भूतेश्वर स्थित अग्निशमन कार्यालय के सामने बने केडी हास्पीटल पाॅलीक्लीनिक की ओपीडी में मौजूद डा. गौरव शर्मा ने बताया कि गुप्त रोगों के नाम पर हमारे समाज के लोगों में काफी भ्रांतियां हैं। ये भ्रांतियां नीम हकीमों द्वारा जानबूझ कर समाज में फैलाई गईं हंै। ये लोग शरीर की सामान्य प्रक्रिया को कोई बीमारी का नाम देकर मरीजों से इलाज के नाम पर धन ऐंठने का काम कर रहे हैं। उनके द्वारा दवा के नाम पर खिलाए जा रहे गैर जरुरी दवाओं से शरीर के दूसरे महत्वपूर्ण अंग बीमार हो जाते हैं। वे काम करना बंद तक कर देते हैं। उन्होंने बताया कि धात रोग, नपुंसकता, श्वेत प्रदर जैसे तमाम रोग शरीर की सामान्य प्रक्रिया का हिस्सा होते हैं। ये सामान्य प्रक्रियाएं जरुरत से ज्यादा होने या कम होने पर रोग का रुप लेते हैं। जिन्हें एक उच्च प्रशिक्षित चिकित्सक द्वारा सामान्य दवाओं के द्वारा ठीक किया जा सकता है। जबकि नीम हकीम इन रोगों को ठीक करने के नाम पर हजारों रुपये की गैर जरुरी दवा मरीजों को खाने को मजबूर करते हैं।
आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि समाज में अंधविश्वास और भ्रांतियां एक अभिशाप के रुप में होती हैं। इस अंधिकार रुपी भ्रांतियांे को विज्ञान के विकास और इसके प्रकाश के माध्यम से ही दूर किया जा सकता है। आज का चिकित्सा विज्ञान काफी विकास कर चुका है। समाज के लोगों को इसका लाभ जरुर उठाना चाहिए। उच्च प्रशिक्षित चिकित्सकों से न्यूनतम ओपीडी शुल्क पर चिकित्सा का भरपूर लाभ केडी हास्पीटल पाॅलीक्लीनिक में आकर उठाना चाहिए।
भूतेश्वर स्थित अग्निशमन कार्यालय के सामने बने केडी हास्पीटल के प्रशासनिक अधिकारी अमित शर्मा ने बताया कि केडी हास्पीटल पाॅलीक्लीनिक में जनरल मेडिसिन, नेत्ररोग, नाक कान गला विभाग, हड्डी रोग विभाग, महिला एवं प्रसव विभाग, बाल रोग विभाग, त्वचा रोग विभाग, टीबी एंड चेस्ट विभाग, जनरल सर्जरी, मनोचिकित्सा विभाग एक्सरे, अल्ट्रासाउंड, पैथोलाजी आदि के ओपीडी के विभाग में विशेषज्ञ चिकित्सक परामर्श दे रहे हैं। इनका ओपीडी फीस मात्र एक सौ रुपये है। पाॅलीक्लीनिक में 1999 रुपये में फुल बाॅडी चेकअप और 2999 में टीएमटी और ईको के साथ उपलब्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »