प्रियंका वाड्रा ने बसपा सुप्रीमो को बीजेपी की अघोषित प्रवक्ता बताया

लखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने आज उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को ट्वीट कर चुनौती दी कि वह उनके खिलाफ जो भी कार्यवाही करना चाहती है, करे। वह इंदिरा गांधी की पोती हैं और सच्चाई को सामने रखती रहेंगी। कानपुर शेल्टर होम प्रकरण को लेकर प्रियंका गांधी के ट्वीट पर यूपी के बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने उन्हें नोटिस भेजा था। इसी के जवाब में प्रियंका ने ये बातें कहीं।
प्रियंका ने शुक्रवार को अपने ट्वीट में न सिर्फ योगी सरकार पर निशाना साधा बल्कि इशारों-इशारों में बीएसपी चीफ मायावती को भी निशाने पर लिया।
अपने ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘जनता के एक सेवक के रूप में मेरा कर्तव्य यूपी की जनता के प्रति है और कर्तव्य सच्चाई को उनके सामने रखने का है। किसी सरकारी प्रॉपगैंडा को आगे रखना नहीं है।’ उन्होंने आगे कहा कि यूपी की सरकार उन्हें ‘फिजूल की धमकियां देकर’ अपना समय व्यर्थ कर रही है।
‘जो भी कार्यवाही करना है, करें’
प्रियंका ने कहा, ‘(योगी आदित्यनाथ) जो भी कार्यवाही करना चाहते हैं, बेशक करें। मैं सच्चाई सामने रखती रहूंगी। मैं इंदिरा गांधी की पोती हूं। कुछ विपक्ष के नेताओं की तरह बीजेपी की अघोषित प्रवक्ता नहीं।’ माना जा रहा है कि प्रियंका ने विपक्ष के नेता के तौर पर बीएसपी चीफ मायावती पर निशाना साधा था। इससे पहले भी कांग्रेस ने मायावती को ‘ट्विटर बहनजी’ कहकर आरोप लगाया था कि वह बीजेपी का प्रेसनोट ट्वीट करती हैं।
प्रियंका को फेसबुक पोस्ट पर मिला था नोटिस
प्रियंका के इस ट्वीट पर योगी आदित्यनाथ सरकार पर प्रमुख रूप से निशाना साधा गया है। दरअसल, कानपुर के शेल्टर होम मामले में प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी (BJP) की योगी सरकार पर सवाल उठाए थे। उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट पर लिखा, ‘फिर से इस तरह की घटनाओं का सामने आना दिखाता है कि जांचों के नाम पर सब कुछ दबा दिया जाता है लेकिन सरकारी बाल संरक्षण गृहों में बहुत ही अमानवीय घटनाएं घट रही हैं।’
इसके बाद उत्तर प्रदेश बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने कानपुर बालिकागृह मामले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा के फेसबुक पोस्ट पर उनको पत्र लिखकर 3 दिन में पोस्ट का खंडन करने को कहा था। इसके साथ ही कहा गया था कि समय रहते खंडन न करने पर प्रियंका गांधी के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *