भाजपा में शामिल होना चाहती थीं प्रियंका चतुर्वेदी, एक गाना बन गया रोड़ा

कल तक विभिन्न समाचार चैनलों पर कांग्रेस के लिए किसी से भी भिड़ जाने वाली तेजतर्रार नेता प्रियंका चतुर्वेदी शिवसेना में शामिल तो हो गईं, लेकिन असल में वे भाजपा में शामिल होना चाहती थीं।
बताया जाता है कि भाजपा में शामिल होने की उनकी ‘महत्वाकांक्षी’ योजना में रोड़ा उनका ही एक गाना बन गया।
एक रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस छोड़ने के बाद प्रियंका की पहली पसंद भाजपा ही थी लेकिन प्रियंका चतुर्वेदी की राह में उनके द्वारा स्मृति ईरानी पर तंज कसता हुआ वह गाना बड़ी बाधा बन गया जो उन्‍होंने स्‍मृति ईरानी के अमेठी से नामांकन दाखिल करने के बाद उनकी शिक्षा को लेकर गाया था।
दरअसल, कुछ समय पहले प्रियंका ने स्मृति की डिग्री को लेकर कटाक्ष करते हुए टीवी चैनल पर एक गीत गुनगुनाया था, जिसका शीर्षक था ‘मंत्री भी कभी ग्रेजुएट थीं…’।
प्रियंका ने कुछ इस अंदाज में गुनगुनाया था- क्वालिफिकेशन के भी रूप बदलते हैं, नए-नए सांचे में ढलते हैं, एक डिग्री आती है एक डिग्री जाती है, बनते एफिडेविट नए-नए हैं’।
इसके माध्यम से प्रियंका चतुर्वेदी ने स्मृति पर खुलकर निशाना साधा था। यही कारण रहा कि ऐन वक्त पर उनकी भाजपा में एंट्री नहीं हो सकी।
गौरतलब है कि प्रियंका चतुर्वेदी मथुरा से टिकट चाहती थीं, लेकिन पार्टी ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया। उन्होंने कहा भी था कि उन्होंने 10 साल पार्टी की नि:स्वार्थ सेवा की थी।
टिकट न मिलने से उनका असंतोष और बढ़ गया था। ऐसे में उन्होंने कांग्रेस छोड़ने का मन बना लिया था। इसके लिए उन्‍होंने आड़ ली मथुरा में अपने साथ हुई उस कथित बदतमीजी की जो एक प्रेस कांफ्रेंस में मथुरा के एक कांग्रेसी गुट ने की थी।
हालांकि उन्होंने कांग्रेस छोड़ने की वजह टिकट न मिलने को नहीं बताया और कहा कि पार्टी में अब गुंडों को तरजीह दी जा रही है इसलिए मैं बहुत दुखी मन से यह निर्णय ले रही हूं।
चूंकि उन्होंने कांग्रेस छोड़ने का मन बना ही लिया था और भाजपा में एंट्री नहीं हो पा रही थी, ऐसे में उन्होंने ऐसी पार्टी को चुना जो सत्ता केंद्र के निकट हो। अब देखना यह होगा कि शिवसेना में उनका कद कहां तक बढ़ता है।
-Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *