प्रधानमंत्री ने की सोमनाथ मंदिर से जुड़े कई प्रोजेक्ट की शुरुआत, कार्यक्रम में लाल कृष्ण आडवाणी भी हुए शामिल

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शु्क्रवार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए गुजरात के सोमनाथ मंदिर से जुड़े कई प्रोजेक्ट की शुरुआत की। परियोजनाओं का उद्घाटन करते हुए पीएम ने कहा कि आस्था को कभी भी आतंक से कुचला नहीं जा सकता है। सोमनाथ मंदिर का उदाहरण प्रस्तुत करते हुए उन्‍होंने कहा कि सैकड़ों सालों के इतिहास में हर बार इस मंदिर का अस्तित्व मिटाने का प्रयास किया गया लेकिन हर बार यह उठ खड़ा हुआ।
PM मोदी ने कहा, ‘इस मंदिर को सैकड़ों सालों के इतिहास में कितनी ही बार तोड़ा गया। यहां की मूर्तियों को खंडित किया गया। इसका अस्तित्व मिटाने की हर कोशिश की गई। लेकिन इसे जितनी भी बार गिराया गया, ये उतनी ही बार उठ खड़ा हुआ। सरदार पटेल साहब, सोमनाथ मंदिर को स्वतंत्र भारत की स्वतंत्र भावना से जुड़ा हुआ मानते थे।’

‘दुनिया आज भी आतंक की उसी विचारधारा से पीड़ित’
उन्होंने कहा कि ‘सोमनाथ मंदिर ऐसा स्थल है, जिसे हजारों साल पहले हमारे ऋषियों ने ज्ञान का क्षेत्र बताया था। जो आज भी पूरे विश्व के सामने आह्वान कर रहा है कि सत्य को असत्य से हराया नहीं जा सकता, आस्था को आतंक से कुचला नहीं जा सकता। दुनिया आज भी आतंक की उसी विचारधारा से पीड़ित है। आतंक का अस्तित्व स्थायी नहीं हो सकता है।’ इस दौरान इस कार्यक्रम में लाल कृष्ण आडवाणी भी नजर आए। वो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस कार्यक्रम में जुड़े। लंबे समय बाद वो किसी कार्यक्रम में नजर आए। सोमनाथ मंदिर से लाल कृष्ण आडवाणी की भी कई यादें जुड़ी हैं।
सोमनाथ मंदिर से रथ यात्रा की शुरुआत
सोमनाथ मंदिर ट्रस्ट में 8 सदस्यों का ट्रस्टी बोर्ड है। लाल कृष्ण आडवाणी भी इसके सदस्य हैं। लाल कृष्ण आडवाणी 25 सितंबर 1990 को सोमनाथ से ही अपने रथ यात्रा शुरू की। यात्रा के सोमनाथ से शुरू होने पर तब संयोजन की जिम्मेदारी मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास थी। आडवाणी ने अपनी इस यात्रा को सोमनाथ से अयोध्या तक भगवान राम के नाम पर एकजुट करने वाली यात्रा बताया था। रथ यात्रा की शुरुआत के लिए लाल कृष्ण आडवाणी ने प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर को ही चुना था। यात्रा शुरू करने से पहले सोमनाथ मंदिर में ही आडवाणी ने पूजा करके अयोध्या तक की यात्रा पर निकले थे। 23 अप्रैल 1999 से ही पूर्व उप प्रधानमंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी सोमनाथ ट्रस्ट के ट्रस्टी हैं।
सोमनाथ मंदिर का आत्मकथा में कुछ ऐसे जिक्र
अपनी आत्मकथा ‘मेरा देश, मेरा जीवन’ में लालकृष्ण आडवाणी ने लिखा है कि अयोध्या राम मंदिर आंदोलन को उसके सही परिप्रेक्ष्य में समझने के लिए जरूरी है कि पहले स्वतंत्र भारत में एक अन्य प्रसिद्ध मंदिर के पुनरुद्धार के बारे में जान लिया जाए। यहां मेरा अभिप्राय गुजरात के सौराष्ट्र तट पर स्थित प्रभास पाटन के सोमनाथ मंदिर से है। जिन्हें भारत के पौराणिक और ऐतिहासिक अतीत की जानकारी नहीं है उनके लिए यह विश्वास कर पाना कठिन होगा कि किस प्रकार एक अकेला तटीय मंदिर भारत के संघर्ष, पीड़ा, विजय तथा उसके राष्ट्रीय स्वाभिमान की गाथा सुनाता है। अपनी युवावस्था में मैंने डॉ. कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी का एक ऐतिहासिक उपन्यास ‘जय सोमनाथ’ पढ़ा था, जिसका मेरे ऊपर गहरा प्रभाव पड़ा। यह उपन्यास मूलरूप से गुजराती भाषा में है, मैंने इसका हिंदी अनुवाद पढ़ा था। उस समय मेरी आयु बीस-बाईस साल रही होगी।
अयोध्या के लिए यात्रा की शुरुआत सोमनाथ से ही क्यों
रथ यात्रा सोमनाथ से ही क्यों शुरू की इसके बारे में लाल कृष्ण आडवाणी ने कहा था कि 80 के दशक में जब अयोध्या मामला राष्ट्रीय राजनीति के केंद्र तक पहुंच गया तो उस समय मेरे मस्तिष्क में महात्मा गांधी, सरदार पटेल, राजेंद्र प्रसाद और केएम मुंशी की एक-एक बात और कार्य गूंजने लगे, जो उन्होंने सोमनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण के सपने को साकार करते समय कहे थे और किए थे। वस्तुत अयोध्या आंदोलन सोमनाथ से जुड़ी हमारी भावना का ही हिस्सा था। वर्ष 1990 में भाजपा ने जब यह निर्णय लिया की पार्टी के अयोध्या में राम मंदिर के पुनर्निर्माण हेतु जनता का समर्थन प्राप्त करने के लिए मैं पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के नाते राम रथयात्रा का नेतृत्व स्वयं करूं तो यह ऐतिहासिक यात्रा प्रारंभ करने के लिए सोमनाथ से अधिक उपयुक्त स्थान और कोई नहीं था।
अस्तित्व मिटाने की हर कोशिश नाकाम
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमनाथ में कई परियोजनाओं का उद्धाटन किया। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि आज मैं लौह पुरुष सरदार पटेल जी के चरणों में भी नमन करता हूं जिन्होंने भारत के प्राचीन गौरव को पुनर्जीवित करने की इच्छाशक्ति दिखाई। इस मंदिर को सैकड़ों सालों के इतिहास में कितनी ही बार तोड़ा गया, यहां की मूर्तियों को खंडित किया गया, इसका अस्तित्व मिटाने की हर कोशिश की गई लेकिन इसे जितनी भी बार गिराया गया, ये उतनी ही बार उठ खड़ा हुआ।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विश्व प्रसिद्ध सोमनाथ मंदिर का प्रबंधन संभालने वाले न्यास के अध्यक्ष भी हैं। वह इस पद पर आसीन होने वाले दूसरे प्रधानमंत्री हैं। पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के बाद मोदी दूसरे ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्हें इस मंदिर न्यास का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। न्यास के रिकार्ड के अनुसार मोदी न्यास के आठवें अध्यक्ष बने हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *