प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर इस्‍तीफा सौंपा

नई दिल्‍ली। लोकसभा चुनावों में प्रचंड जीत के बाद आज शाम को दिल्ली के केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई। मोदी सरकार की आखिरी कैबिनेट की मीटिंग खत्म होने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। उन्होंने लोकसभा भंग किए जाने की जानकारी देने के साथ ही अपना इस्तीफा भी राष्ट्रपति को सौंपा। इसके पूर्व बैठक में 16 वीं लोकसभा को भंग करने का निर्णय लेते हुए प्रस्ताव पास किया गया है।
इसके पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी इस बैठक में शामिल होने के लिए पहुंची थी। इसके अलावा नितिन गडकरी, पीयूष गोयल सहित अन्य मंत्री भी बैठक में शामिल हुए।
दोपहर 2 बजे तक फाइनल रिजल्ट आ चुके थे और इसमें जहां एनडीए 353 सीटों पर जीत दर्ज कर चुकी थी वहीं यूपीए के खाते में 92 सीटें गई हैं जबकि अन्य के खाते में 97 सीटें गईं हैं।
चुनाव आयोग के आधिकारिक आंकड़े के अनुसार भाजपा ने 303 सीटों पर जीत दर्ज की है वहीं कांग्रेस के खाते में महज 52 सीटें आईं हैं।
इस बीच खबर है कि नतीजों के बाद अब नई सरकार की गठन की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। खबरों के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी 30 मई को शपथ ग्रहण कर सकते हैं। यह शपथ ग्रहण पिछली बार की तरह शाम 4 से 5 बजे के बीच ही होगा। इससे पहले प्रधानमंत्री 28 मई को काशी जा सकते हैं और वहां एक सभा को संबोधित कर सकते हैं। वहीं गुजरात जाकर अपनी मां हीरा बा से भी मुलाकात कर सकते हैं।
हालांकि, फिलहाल यह साफ नहीं है कि पिछली बार की तरह इस बार दुनिया के देशों से नेताओं का शपथ ग्रहण में हिस्सा लेने के लिए बुलाया जाए।
इस लोकसभा का कार्यकाल 3 जून को खत्म हो रहा है। इसके बाद 17वीं लोकसभा का गठन किया जाएगा। इसके गठन के लिए तीन चुनाव आयुक्त राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे और नवनिर्वचित उम्मीदवार की लिस्ट सौपेंगे। केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में काउंसिल ऑफ मिनिस्टर्स साउथ ब्लॉक में प्रधानमंत्री से मुलाकात करेंगे।
29 को शपथ ले सकती है नई सरकार
भाजपा संसदीय बोर्ड ने गुरुवार को बैठक में प्रस्ताव पारित कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व की सराहना की और पार्टी के एजेंडा को समर्थन देने के लिए लोगों को धन्यवाद दिया। सभी नवनिर्वाचित भाजपा सांसदों की शनिवार को बैठक हो सकती है जिसमें मोदी को नेता चुना जाएगा। इसके बाद सरकार के गठन के लिए राष्ट्रपति से मुलाकात की जाएगी। नई सरकार के 29 मई को शपथ लेने की संभावना है।
NDA को मिली प्रचंड जीत, भाजपा की ट्रिपल सेंचुरी
गुरुवार 23 मई का दिन भारतीय राजनीति के इतिहास और खासकर भाजपा के लिए एक स्वर्णिम अध्याय लेकर आया। पीएम नरेंद्र मोदी के विराट व्यक्तित्व, कृतित्व और आक्रामक प्रचार शैली के दम पर भाजपा ने 48 साल बाद इंदिरा गांधी का कीर्तिमान तोड़ दिया। अदृश्य मोदी लहर पर सवार भाजपा ने लगातार दूसरी बार अपने दम पर पूर्ण बहुमत हासिल कर लिया। पार्टी ने सहयोगियों के साथ मिलकर 348 सीटों पर बढ़त/जीत हासिल कर ली। कांग्रेस समेत समूचे विपक्ष को करारी पराजय का सामना करना पड़ा।
छठी बार की 44 सीटों के मुकाबले कांग्रेस पूरा जोर लगाने के बाद भी विपक्ष के नेता का दर्जा पाने लायक सीटें जीतने की स्थिति में नहीं है। मालूम हो कि 1967 में इंदिरा गांधी ने 40.78 प्रतिशत वोट के साथ 520 सीटों में से 283 सीटें जीती थीं। इसके बाद 1971 के चुनाव में उन्होंने 43.68% वोटों के साथ 352 सीटें जीतीं। 2014 में एनडीए ने 336 सीटें जीतीं, जिसमें अकेले भाजपा की 282 सीटें थीं। 2019 में मोदी के नेतृत्व में एनडीए ने बढ़ी ताकत के साथ जीत दर्ज की।
17 राज्यों में खाता नहीं खोल सकी कांग्रेस
चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, ओडिशा, राजस्थान, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, चंडीगढ़, दमन-दीव, गुजरात, हरियाणा, लक्षद्वीप, सिक्किम, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश और त्रिपुरा सहित तकरीबन डेढ़ दर्जन राज्यों में कांग्रेस का खाता तक नहीं खुला। इसी तरह मप्र में सत्ताधारी दल होने के बावजूद कांग्रेस 29 लोक सभा सीटों में से मात्र एक सीट जीतने की स्थिति में थी। कर्नाटक में गठबंधन सरकार होने के बावजूद वहां भी जद-एस और कांग्रेस का लगभग सफाया हो गया। दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार होने के बावजूद देश की राजधानी से उसका सफाया हो गया है।
17 राज्यों में भाजपा को 50 फीसदी से ज्यादा वोट
– उप्र, हरियाणा, मप्र, राजस्थान, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, गुजरात, झारखंड, हिमाचल प्रदेश, गोआ, कर्नाटक, दिल्ली, चंडीगढ़ व अरुणाचल शामिल हैं।
50 फीसदीः
– गुजरात, दिल्ली, अरुणाचल प्रदेश, चंडीगढ़, दमन-दीव, हरियाणा, हिमाचल, त्रिपुरा व उत्तराखंड।
50 फीसदी से कमः
– पश्चिम बंगाल में भाजपा को करीब 40 वोट व जम्मू-कश्मीर में 46 फीसदी वोट मिले।
– 2014 में पूरे देश में उसका वोट परसेंट 31-32 फीसदी रहा था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »