BRICS सम्‍मेलन में एकबार फिर मिले प्रधानमंत्री मोदी और राष्‍ट्रपति जिनपिंग

जोहानिसबर्ग (दक्षिण अफ्रीका)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से एक बार फिर मुलाकात की है। दोनों ही नेता दक्षिण अफ्रीका में BRICS देशों के शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए पहुंचे हैं। इस मुलाकात में दोनों ही नेताओं ने भारत-चीन के बेहतर होते संबंधों की गति को बनाए रखने पर जोर दिया।
बता दें कि BRICS समिट से इतर पीएम मोदी की जिनपिंग से यह पिछले 4 महीनों में तीसरी मुलाकात है। मोदी ने कहा कि इस मीटिंग के जरिए विकास साझेदारी को मजबूत करने का एक और मौका मिला है। पीएमओ ने इस मुलाकात पर ट्वीट करते हुए लिखा, ‘भारत-चीन की बढ़ती दोस्ती। पीएम मोदी ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग से साउथ अफ्रीका में BRICS समिट से इतर मुलाकात की।’ इस मौके पर दोनों ही नेताओं ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ब्रिक्स देशों के सहयोग और आपसी लाभ के मुद्दों पर चर्चा की।
बता दें कि इससे पहले अप्रैल महीने में चीन के वुहान शहर में मोदी और जिनपिंग ने एक अनौपचारिक मुलाकात की थी। इसके बाद दोनों नेताओं की मुलाकात जून में शंघाई सहयोग संघठन के सम्मेलन के दौरान चीन में हुई थी। जिनपिंग से अपनी हालिया मुलाकातों को याद करते हुए मोदी ने कहा कि उन्होंने भारत-चीन संबंधों को नए सिरे से मजबूत किया है और दोनों देशों के बीच सहयोग के नए मौकों को खोला है। अपने वक्तव्य में मोदी ने जिनपिंग से कहा, ‘मुलाकातों के इस दौर को बनाए रखना जरूरी है और हम लोगों को अपने स्तर पर लगातार अपने संबंधों की समीक्षा करनी चाहिए, साथ ही जब भी जरूरत हो एक-दूसरे को जरूरी निर्देश देने चाहिए।’
मोदी और जिनपिंग की मुलाकात के बारे में विदेश सचिव विजय गोखले ने मीडिया को बताया, ‘पिछली मुलाकातों में पीएम मोदी ने राष्ट्रपति जिनपिंग के समक्ष भारत से चीन को कृषि उत्पादों का निर्यात बढ़ाए जाने के बारे में चर्चा की थी। इस मुलाकात में यह निर्णय लिया गया है कि इस मुद्दे पर आगे चर्चा करने के लिए अगस्त के पहले हफ्ते में एक इंडियन ट्रेड डेलिगेशन चीन जाएगा।’ गोखले ने बताया कि इस मुलाकात में भी मोदी और जिनपिंग ने दोनों देशों की सेनाओं के बीच संवाद व संचार को बढ़ाए जाने और सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति बनाए रखने के लिए अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »