1 अप्रैल से घट सकती हैं इंश्योरेंस कंपनियों के टर्म प्लान की कीमतें

मुंबई। कामकाजी उम्र वाले भारतीयों को अगले वित्त वर्ष से इंश्योरेंस खरीदने पर कम खर्च करने पड़ सकते हैं क्योंकि इंश्योरेंस इंडस्ट्री लाइफ कवर की लागत की समीक्षा के लिए मृत्यु दर के अत्याधुनिक आंकड़ों की ओर मुखातिब होने जा रही है। इस वजह से 22 से 50 वर्ष की उम्र के लोगों को 1 अप्रैल से सस्ते में टर्म प्लान मिल सकते हैं जब नए आंकड़े को आधार बनाना शुरू हो जाएगा।
एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस के चीफ एक्चुअरी संजीव पुजारी ने बताया, ‘प्रीमियम कंपनी विशेष के अनुभव पर आधारित होता है और इमसें भी कटौती हो सकती है। मोर्टैलिटी टेबल (मृत्यु दर सारिणी) में इंडस्ट्री का अनुभव झलकता है।’ उन्होंने कहा, ‘कुछ देशों में इसमें हर साल बदलाव होते हैं, लेकिन भारत में यह हर पाचवें-छठे वर्ष में होता है।’
इंस्टीट्यूट ऑफ एक्चुअरीज ऑफ इंडिया की ओर से प्रकाशित संशोधित इंडियन अस्योर्ड लाइव्स मोर्टैलिटी टेबल 2012-14 से पता चलता है कि 22 से 50 वर्ष के अंदर इंश्योरेंस लेने वालों की मृत्यु दर 4 से 16 प्रतिशत कम है। इंडस्ट्री पहले लाइफ इंश्योरेंस प्रोडक्ट्स की प्राइसिंग तय करने के लिए 2006-08 का रेफरेंस फ्रेम इस्तेमाल किया करती थी।
हालांकि, नए आंकड़ों पर आधारित कीमत निर्धारण की प्रक्रिया में बुजुर्गों के इंश्योरेंस कवर पर प्रीमियम बढ़ सकते हैं। टेबल से पता चलता है कि 82 से 105 वर्ष की उम्र के लोगों की मृत्यु दर 3 से 21 प्रतिशत तक बढ़ी है। टेबल में यह भी सामने आया है कि इंश्योरेंस लेने वाली महिलाओं की मृत्यु दर घटी है। इसके मुताबिक 14 से 44 वर्ष की उम्र वाली इंश्योर्ड महिलाओं की मृत्यु दर 4.5 से 17 प्रतिशत तक सुधार आया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *